DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईमानदारी है सबसे ऊपर

चुनावी लोकतंत्र का यक्ष प्रश्न रहा है-मतदाता क्या पसंद करता है? इसका उत्तर हर कोई अपने-अपने हिसाब से देता है। किन्तु पूरे उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर किए गए एक सर्वेक्षण में सामने आया है कि मतदाता सबसे ज्यादा पसंद प्रत्याशी की ईमानदारी और उसकी काबिलियत को करता है। यह सर्वेक्षण भारत निर्वाचन आयोग के कहने पर गिरि विकास अध्ययन संस्थान ने हाल ही में किया था। इसमें प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों के 5400 परिवारों ने हिस्सा लिया था।

डॉ बीके बाजपेयी के नेतृत्व में किए गए इस सर्वेक्षण में मतदाताओं ने बताया कि वे सबसे ज्यादा ध्यान प्रत्याशी की विश्वसनीयता को देते हैं। प्रत्याशी की ईमानदारी को प्राथमिकता देने वाले मतदाता भी बहुत बड़ी संख्या में थे। यह बात उभर कर सामने आई कि जिन क्षेत्रों में अच्छे प्रत्याशी होते हैं वहां मतदान भी ज्यादा होता है और मतदाता अपेक्षाकृत उत्साह से मतदान भाग लेते हैं। इसके विपरीत जहां कमजोर प्रत्याशी रहा वहां मतदान के प्रति उदासीनता देखने को मिली और मतदान का प्रतिशत भी कम रहा।

मतदाताओं की पसंद को ठीक से समझने के लिए उन्हें दो वर्गों में विभाजित किया गया। पहला-धर्म के आधार पर और दूसरा सामान्य अर्थात स्त्री-पुरुष। दोनों ही वर्गों के निष्कर्षों ने इस तथ्य को प्रमाणित किया कि आम आदमी की प्राथमिकता सिर्फ और सिर्फ एक अच्छा प्रत्याशी चुनने की होती है।

मतदान क्यों नहीं करते हैं लोग-इस पर लोगों की राय अलग-अलग सामने आई। 37. 36 प्रतिशत लोगों ने मतदान के प्रति उदासीनता दिखाई। उनका मानना था कि मौजूदा तंत्र को बदलना नामुमकिन है फिर हम क्यों अपना समय खराब करें। इससे कोई लाभ नहीं होने वाला है। 16. 31 प्रतिशत लोगों  ने किसी न किसी आक्रोश के कारण मतदान नहीं किया। आक्रोश की वजह प्रत्याशी, दल या किसी समस्या का समाधान न होने के कारण था।

41.84 प्रतिशत लोगों ने कोई न कोई समस्या बताई मतदान करने की वजह। इन समस्याओं में व्यक्तिगत से लेकर प्रशासन से संबंधित समस्याएं थीं। मसलन पहचान पत्र नहीं मिला, पर्ची नहीं मिली, लंबी लाइन है, घर में कोई काम है आदि बातें थीं। व्यवस्था के प्रति आक्रोश के कारण मतदान न करने  वालों में सबसे अधिक प्रतिशत अनुसूचित जाति का रहा। उसके बाद सामान्य तथा अन्य पिछड़ा वर्ग था। 04. 49 प्रतिशत लोगों ने  अन्य कई समस्याएं बताईं।

हिन्दुस्तान के सर्वे में भी ईमानदारी अव्वल
लखनऊ। उल्लेखनीय है कि हिन्दुस्तान ने ‘आओ राजनीति करें’ अभियान के तहत ‘हमारा एमएलए कैसा हो’ पर जनता के बीच रायशुमारी की थी। रायशुमारी में भी यही बात सामने आई थी कि लोग प्रत्याशी में सबसे अधिक ईमानदारी और उसकी काबिलियत को ही पसंद करते हैं।  इस सर्वेक्षण में शामिल हुए लगभी सभी लोगों ने एक स्वर से कहा था कि वे सबसे ज्यादा ध्यान और प्राथमिकता प्रत्याशी की ईमानदारी और उसकी काबिलियत को देते हैं।

सर्वेक्षण में शामिल जिले
लखनऊ, सीतापुर, रायबरेली, बरेली, आगरा, मथुरा, सहारनपुर, मुरादाबाद, बिजनौर, वाराणसी, गोरखपुर, फैजाबाद, भदोही, बलिया, गोण्डा, बांदा, चित्रकूट और ललितपुर।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ईमानदारी है सबसे ऊपर