DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हार के बाद भाजपा-योगी में खटास और बढ़ने के संकेत

विधानसभा चुनाव में भाजपा की हुई करारी हार के बाद भाजपा और उसके स्टार नेता योगी आदित्यनाथ में खटास और बढ़ने के संकेत हैं। योगी ने जहां हार का ठीकरा भाजपा के प्रांतीय नेताओं के सिर फोड़ा तो वहीं प्रदेश अध्यक्ष सूर्यप्रताप शाही की हार पर उनके चुनाव क्षेत्र पथरदेवा में पार्टी कार्यकर्ताओं और शाही समर्थकों ने मंगलवार और बुधवार को जगह-जगह योगी का पुतला फूंका। प्रदेश अध्यक्ष के क्षेत्र में योगी के खिलाफ इस तरह का प्रदर्शन भविष्य की किसी रणनीति की ओर भी संकेत कर रहा है।

इस चुनाव में भाजपा को गोरखपुर-बस्ती मण्डल की 41 सीटों में से महज सात सीटें मिली हैं। कहने के लिए उसने 2007 के प्रदर्शन को दोहराया है मगर प्रदेश अध्यक्ष सूर्यप्रताप शाही और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमापति राम त्रिपाठी जैसे नेताओं की हार पार्टी के लिए जोरदार झटका है। योगी के भी आठ में से महज दो करबी जीत पाए। पार्टी का यह दयनीय प्रदर्शन भाजपा और योगी में खटास का दुष्परिणाम भी बताया जा रहा है।

शाही की हार से नाराज पथरदेवा क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ताओं ने मंगलवार और बुधवार को न केवल योगी आदित्यनाथ का पुतल फूंका बल्कि उनको और उनकी हिन्दू युवा वाहिनी को खरी खोटी भी सुनाई। मंगलवार को चुनाव परिणाम आने के बाद शाही समर्थकों व भाजपा कार्यकर्ताओं का गुस्सा सतह पर आ गया। रात करीब 10 बजे कार्यकर्ताओं ने पश्चिमी चौराहे पर उनका पुतला फूंका और नारेबाजी की।
 बुधवार को दिन में 10 बजे कॉलेज मोड़ पर दजर्नों लोग एकत्र हुए और अजय मद्धेशिया के नेतृत्व में योगी के खिलाफ नारे लगाते हुए फलमंडी के सामने पहुंचे। वहां योगी का पुतला फूं कने के बाद समर्थक जलनिगम कार्यालय के सामने पहुंचे। वहां भी उनका पुतला जलाया। उनका आरोप था कि योगी के इशारे पर ही पथरदेवा से हियुवा के राणा प्रताप सिंह चुनाव लड़े। योगी चाहते तो राणा चुनाव नहीं लड़ते और माहौल ऐसा बनता कि शाही चुनाव जीत जाते। लेकिन उन्होंने ऐसा नही किया। पुतला फूंकने वालों में रामप्रीत सिंह, चुन्नी लाल, अंगद मद्धेशिया, संतोष मद्धेशिया, अमरजीत मद्धेशिया, संजय विश्वकर्मा, अनोखे लाल भारती, विनय पाण्डेय थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हार के बाद भाजपा-योगी में खटास और बढ़ने के संकेत