DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदायूं ने तोड़ डाला एक दशक पुराना रिकार्ड

वाह बदायूं वाह! कमाल कर दिया। हिन्दुस्तान के ‘आओ राजनीति करें’ अभियान से जागे बदायूं ने शनिवार को लोकतंत्र के फर्ज को बखूबी निभाया। बीते दो चुनाव के रिकार्ड को तोड़ते हुए लगभग 60.11 प्रतिशत मतदान हुआ जो क्रमश 2007 के चुनाव से लगभग साढ़े ग्यारह और 2002 से लगभग ढाई फीसदी ज्यादा था।

दातागंज के मतदाता 62.08 फीसदी मतदान के साथ फस्र्ट क्लास पास हुए हैं। जबकि बदायूं और शेखुपुर में सबसे कम 59 फीसदी वोट पड़े। मतदान में देहात के इलाके शहरी क्षेत्रों पर भारी पड़े। इस बढ़ोत्तरी में युवा और पहली बार वोटर्स की भूमिका रही। वहीं हाईटेक इलेक्शन में पर्ची जैसी बेहतर व्यवस्था ने वोटर्स के उत्साह को और बढ़ा दिया। शनिवार को आखिरी चरण के मतदान के लिए जिले के 1757 मतदान केंद्रों पर बनाए गए 2405 पोलिंग बूथों पर सुबह सेक्टर मजिस्ट्रेट पोलिंग बूथों पर पहुंचे।

यूं तो सात बजे मतदान शुरू हो गया। मगर सुबह आठ बजे तक मतदान रफ्तार नहीं पकड़ पाया। सुबह नौ बजे तक नव सजिर्त जिले की गुन्नौर विधानसभा समेत जिले की सभी सातों विधानसभा में केवल 9.5 प्रतिशत मतदान हुआ। उसके बाद धूप खिली तो मतदान केंद्रों पर भी मतदाताओं के जोश से लबरेज खिलखिलाते चेहरे दिखने शुरू हुए। सुबह की चाय और नाश्ते के बाद घरों से निकली वोटरों की भीड़ ने एक बजे तक वोटिंग ग्राफ बढ़कर 39 प्रतिशत पर पहुंचा दिया। अब रिकार्ड को इंतजार था-सबसे अहम दौर यानी एक से तीन बजे का। उम्मीद जैसी थी, वैसा ही हुआ। शहर का एसके इंटर कालेज हो, वजीरगंज का मुन्नालाल इंटर कालेज या बिसौली का जूनियर हाईस्कूल। हर जगह सड़कों पर वोटर खासकर घर से न निकलने वाली महिलाओं का रेला था। इस रेले ने तीन बजे तक हॉफ सेंचुरी बना डाली। इस वक्त तक 50.85 फीसदी मतदान हो गया। यानी पिछला रिकार्ड ध्वस्त। कुछेक सेंटरों को छोड़ दें तो इसके बाद लगभग हर बूथ पर इक्का-दुक्का लोग ही नजर आए। शाम पांच बजे तक 60.11 फीसदी मतदान की खबर जब फिजाओं में गूंजी तो हर शख्स के चेहरे पर गर्व के भाव थे। इसके साथ ही ‘आओ राजनीति करें’ अभियान का ये पड़ाव समाप्त हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बदायूं ने तोड़ डाला एक दशक पुराना रिकार्ड