DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिलाओं के प्रति संवेदनशीलता के लिए यूजीसी की पहल

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने महिलाओं प्रति संवदेनशीलता बढाने के उद्देश्य से देश के सभी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों को निर्देश जारी किए हैं।

मानव संसाधन विकास मंत्री एम. पल्लम राजू ने शुक्रवार को प्रश्नकाल के दौरान राज्यसभा को सूचित किया कि लैंगिक संवेदीकरण और लैंगिक अध्ययन पर बल देने के उद्देश्य से यूजीसी ने देश के सभी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों को पत्र लिखकर गंभीर पहल करने को कहा है। देश में महिलाओं के प्रति बढ़ती हिंसा के मद्देनजर यूजीसी ने सभी पाठक्रमों में लैंगिक सरोकारो को सम्मलित करने की आवश्यकता बताई है और इस संबंध में सभी विश्वविद्यालयों को सूचित किया गया है।

उन्होंने कहा कि महिला अध्ययन को बढा़वा देने के लिए यूजीसी ने विशेष योजना के माध्यम से देश में 158 महिला अध्ययन केन्द्र खोले हैं जिनमें से 82 केन्द्र विश्वविद्यालयों में और 76 केन्द्र महाविद्यालयों में है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पाठ्यचर्या ढांचा 2005 लिंगभेद को पाठचर्या के सभी क्षेत्रों को प्राथमिकता दी गई है और इसमें लैंगिक शिक्षा स्कूल स्तर पर बच्चों की पढाई का प्रमुख हिस्सा बनाने की परिकल्पना की गई है। लैंगिक सरोकारो को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) द्वारा तैयार की गई पाठ्यचर्याओं और पाठ्य पुस्तकों में सम्माहित किया गया है। केन्द्रीय माध्यिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से सम्बद्ध स्कूलों और कई राज्य सरकारें इसका उपयोग कर रहे हैं। सीबीएसई ने शैक्षिक सत्र 2013-14 में ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के लिए मानवाधिकार और लैंगिक अध्ययन पर एक वैकल्पिक पाठ क्रम देने का निर्णय लिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिलाओं के प्रति संवेदनशीलता के लिए यूजीसी की पहल