DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसएमएस के व्यावसायिक उपयोग पर ट्राई हुआ सख्त

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने मोबाइल टेलीफोन धारकों को अवांछित वाणिज्यिक एसएमएस से बचाने और इस तरह के एसएमएस को नियंत्रित करने के उद्देश्य से किसी भी पैक के तहत प्रतिदिन अधिकतम एक सौ एसएमएस की सीमा तय करते हुए कहा है कि इससे अधिक होने पर अब न्यूनतम 50 पैसे प्रति एसएमएस वसूला जाए।

ट्राई के उपभोक्ता मामलों, गुणवत्ता एवं सेवाओं के प्रमुख सलाहकार परमेश्वरन ने संवाददाताओं को बताया कि टेलीकाम आपरेटरो से चर्चा के बाद अवांछित एंव वाणिज्यिक एमएमएस से ग्राहकों बचाने के लिए कुछ उपाय किए गए हैं जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई देशों में पहले से ही लागू है। उन्होंने बताया कि प्रतिदिन एक सौ से अधिक एसएमएस भेजने पर आपरेटरों को न्यूनतम 50 पैसे प्रति एसएमएस शुल्क वसूलना होगा। यह व्यवस्था एक पखवाडे में लागू हो जाएगी।

उन्होंने बताया कि मशीन के माध्यम से थोक के भाव में प्रमोशनल एमएसएम भेजने वाले गैर पंजीकृत टेलीमार्केटिंग कंपनियों को नियंत्रित करने के उद्देश्य से भी नई व्यवस्था बनाई गई है जो तीन महीने में प्रभावी हो जाएगी। इसके तहत एक ही एसएमएस को हजारो लोगों को भेजने से भी नियंत्रित करने के उपाय किए गए हैं। इस तरह के एसएमएस एक घंटे में दौ से अधिक ग्राहकों को नहीं भेजे जा सकेंगे लेकिन पंजीकृत टेलीमार्केटिंग कंपनियों को इस प्रावधान से अलग रखा गया है।

यह व्यवस्था गैर वाणिज्यिक एसएमएस भेजने वाले सामान्य उपभोक्ता पर भी लागू नहीं होगी। देश में अभी मात्र 2771 पंजीकृत टेलीमार्केटिंग कंपनियां है। परमेश्वरन ने बताया कि आपरेटरो को नया कनेक्शन लेने वाले उपभोक्ताओं से कनेक्शन का टेलीमार्केटिंग के लिए उपयोग नहीं किए जाने की वचनबद्धता वाला फार्म भी भरवाना होगा। उसमें यह भी उल्लेख होगा कि कनेक्शन का इस तरह के मामले में संलिप्त पाए जाने पर कनेक्शन बंद कर दिया जाएगा।

परमेश्वरन ने बताया कि आम उपभोक्ता अब इस तरह के थोक में आने वाले एसएमएस के संबंध में अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसके लिए ट्राई ने नया एसएमएस नंबर 1909 शुरू किया है जो कल से शुरू हो जाएगा। शिकायत दर्ज कराने के लिए अवांछित एसएमएस को भेजने वाले के नबंर के साथ 1909 पर एसएमएस करना होगा और शिकायत दर्ज हो जाएगी। उन्होंने बताया कि शिकायत मिलने पर अवांछित एसएमएस भेजने वाले को पहले चेतावनी दी जाती है लेकिन फिर से शिकायत मिलने पर उसका मोबाइल कनेक्शन बंद कर दिया जाता है।

उन्होंने बताया कि पिछले एक वर्ष में एक लाख 33 हजार ऐसी शिकायतें मिली है जिनमें से गत 22 अक्टूबर तक एक लाख से अधिक कनेक्शन बंद किए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि आपरेटरों को उपभोक्ताओं को एसएमएस पैक के दूरूपयोग के प्रति जागरूकता अभियान भी चलाने की सलाह दी गई है और प्रति छमाही उपभोक्ताओं एक एसएमएस भेजकर इसके दुरुपयोग पर होने वाली परेशानियों से अवगत कराना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एसएमएस के व्यावसायिक उपयोग पर ट्राई हुआ सख्त