DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेक छात्र भी स्वइन फ्लू की चपेट में

जाड़े की दस्तक के साथ ही स्वाइन फ्लू ने सोहणी सिटी में अपना विकराल रूप अख्तियार करना शुरू कर दिया है। सोमवार को एक छात्रा की मौत की सूचना के बाद मंगलवार को पेक यूनिवर्सिटी के छात्र के स्वाइन फ्लू पॉजीटिव होने की खबर ने सभी के कान खड़े कर दिए हैं। पेक में इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग के तृतीय वर्ष के छात्र सिद्धार्थ अहलुवालिया को स्वाइन फ्लू पॉजीटिव पाया गया है। सिद्धार्थ 8 नवंबर को सुबह तक पेक परिसर में ही था। हिमालय हॉस्टल में रहने वाले इस छात्र को जब सर्दी ने काफी परेशान कर दिया तो छात्र अपने माता-पिता के पास दिल्ली चला गया। दिल्ली में उसकी जांच शुरू की गई और जांच के दौरान ही स्वाइन फ्लू की पुष्टी हुई। इसके बाद सिद्धार्थ के बारे में उसके पिता ने पेक प्रबंधन को सूचना दी। सूचना मिलते ही पेक प्रबंधन ने अपने स्तर पर काम शुरू किया। हिमालय हॉस्टल में कुल 244 छात्रों के रहने की व्यवस्था है।सोहणी सिटी में अब तक 73 पॉजीटिव चंडीगढ़ में स्वाइन फ्लू तेजी से पांव पसारने लगा है। अब तक चंडीगढ़ चिकित्सा विभाग की ओर से 73 पॉजीटिव केस करार दिए गए हैं। यूटी के नोडल अफसर के अनुसार इन मामलों में चंडीगढ़ के साथ ही पंजाब और हिरयाणा के भी कुछ मामले शामिल हैं। 73 पॉजीटिव मामलों में सबसे अधिक 20 छात्र और 20 चिकित्सक हैं। 10 ऐसे लोग हैं, जो विदेश सफर से लौटते ही इस रोग से ग्रस्त पाए गए। सोमवार को ही स्वाइन फ्लू की वजह से सेक्टर-8 का डीएवी-लाहौर और सेक्टर-39 स्थित सरकारी स्कूल बंद करने का फैसला लिया गया था। जाड़े के पहले गत महीने स्वाइन फ्लू पॉजीटिव होने से भवन विद्यालय को भी बंद करना पड़ा था। इससे पहले दिल्ली पब्लिक स्कूल ने सर्दी पीडिम्त लगभग 40 छात्रों को स्कूल से लौटाया था।सभी सर्दी प्रभावित छात्रों को भेजा गया सेक्टर-16सिद्धार्थ के स्वाइन फ्लू पॉजीटिव आने की सूचना के बाद पेक प्रशासन ने चिकित्सकीय सलाह ली और सभी हॉस्टलर्स को सूचित किया गया कि जो भी छात्र सर्दी से पीडिम्त है, वह पेक की चिकित्सक के साथ सेक्टर-16 में जाकर जांच कराए। इस निर्देश की एक सूचना भी नोटिस बोर्ड पर चस्पा दी गई। साथ ही पेक ने मंगलवार शाम को डूज एंड डॉन्ट्स की निर्देशिका भी चिपका दी गई हैं।सभी छात्र रहेंगे ऑब्जर्वेशन में इस घटना के बारे में पेक के डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. एमएल गुप्ता ने कहा कि हमने नोडल अफसर से इस बारे में बातचीत की है। उनकी सलाह पर सभी सर्दी से ग्रसित छात्रों को हॉस्टल के उनके कमरे में ही रहने को कहा जाएगा। पेक अपनी ओर से इन सभी छात्रों को दवाईयां उपलब्ध करएगी। सेक्टर-16 में जांच के बाद अधिकांश छात्रों को क्लिन चिट दे दी गई। कुछ पर नजर रखने को कहा गया है तो एक-दो को उन्होंने अपनी ऑब्जर्वेशन में रखने का फैसला लिया है। पेक फेस्ट भी पड़ा स्वाइन फ्लू के घेरे में पेक यूनिवर्सिटी का तीन दिवसीय पेक फेस्ट भी संदेह के घेरे में पड़ गया है। विभिन्न यूनिवर्सिटी से हजारों की संख्या में छात्र इस फेस्ट में हिस्सेदारी निभाने पहुंचे थे। फेस्ट छह नवंबर से आठ नवंबर तक चला था। ऐसे में यह जांच वाली बात होगी कि इस दौरान सिद्धार्थ की मौजूदगी अन्य छात्रों के लिए भी परेशानी का सबब तो नहीं बन गई। यह राहत की बात है कि पेक फेस्ट में सिद्धार्थ की सक्रिय भागेदारी नहीं थी।इनका कहना हैपेक अथॉरिटी की ओर से हमें स्वाइन फ्लू से पीडिम्त छात्र की सूचना मिली है। छात्र दिल्ली के मालवीय नगर का रहने वाला है। यह काफी स्वाइन फ्लू प्रोन इलाका है। यहां अब तक 156 मामले रिपोर्ट हो चुके हैं। हमने अपनी ओर से पेक को जरूरी निर्देश भेज दिए हैं। छिड़काव के साथ सफेदी आदि कराने को भी कहा गया है। डॉ. एचसी गेरा, नोडल अफसर, चंडीगढ़ चिकित्सा विभागहम लगातार नोडल अफसर के संपर्क में हैं। उनकी ओर से हर सलाह को क्रियांवित किया जा रहा है। वॉर्डन के साथ स्वयं डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. एमएल गुप्ता मामले को देख रहे हैं। अभी तक नोडल अफसर की ओर से पेक बंद करने संबंधी कोई निर्देश नहीं मिला है। वैसे एहतियात के सभी उपाय किए जा रहे हैं।डॉ. मनोज दत्ता, निदेशक, पेक यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजीफोटो: स्वाइन फ्लू नाम से चंडीगढ़ लाइव में सेव की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पेक छात्र भी स्वइन फ्लू की चपेट में