DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खुलेआम बेचा जा रहा था मौत का सामान

यूटी पुलिस ने शहर के दो बड़े केमिस्ट्स के यहां छापा मारकर दिल, दिमाग और हार्निया के ऑपरेशन में काम आने वाला नकली सामान बरामद किया है। सेक्टर-11 स्थित कुमार ब्रदर्स के यहां मारे गए छापे में 88 हजार रुपए का और सेक्टर 24 के जिंदल एसोसिएट्स से 55 हजार रुपए का नकली सामान जब्त किया है।पुलिस ने कुमार ब्रदर्स के एक सेल्स मैन और जिंदल एसोसिट्स के मालिक को गिरफ्तार किया है। विशेषज्ञों के अनुसार ऑपरेशन के दौरान इस नकली सामान का इस्तेमाल मरीज के लिए जानलेवा साबित होता है। जानसन एंड जानसन कंपनी के मैनेजर पंकज मोगा ने पुलिस को शिकायत देकर आरोप लगाया था कि दोनों ही केमिस्ट उनकी कंपनी का लोगो लगाकर नकली सर्जीकल सामान बेच रहे हैं।क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर चरणजीत सिंह विर्क की अगुवाई में कुमार ब्रदर्स के यहां छापामारा गया तो 25 सर्जी सेल्स, 20 प्रोलेन मेसेज और 16 स्यूचर यहां से मिले। दुकान मालिक अश्वनी कुमार सिंगला मौके से फरार हो गया जबकि उसका कर्मचारी वरिंदर कुमार गिरफ्तार कर लिया गया है। इस बीच सेक्टर-24 स्थित जिंदल एसोसिएट्स के यहां से पुलिस ने 24 प्रोलेन मेसज, 12 सर्जी सेल्स और अन्य सामान बरामद किया गया है। इनकी कुल कीमत डेढ़ लाख रुपए आंकी जा रही है।पुलिस ने दोनों केमिस्टों के खिलाफ अलग-अलग आपराधिक मामले दर्ज किए हैं। इनमें धोखाधड़ी और षडय़ंत्र का मामला है। इसके साथ ही कॉपी राइट एक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया गया है। जानलेवा होता है नकली सामानविशेषज्ञों के अनुसार हार्निया आपरेशन के दौरान प्रोलेन मेस की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।यह वास्तव में एक टिसू है। इसके साथ ही सर्जी सेल का काम ब्रेन और हार्ट के आपरेशन के समय खून के बहाव को नियंत्रित करना होता है। विशेषज्ञों के अनुसार ब्रांडेड सामान में जो मैटेरियल इस्तेमाल होते हैं वे उम्दा होते हैं पर इन नकली सामानों में प्लास्टिक आदि का इस्तेमाल किया जाता है। आपरेशन के दौरान मरीजों के लिए ये जानलेवा साबित हो सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खुलेआम बेचा जा रहा था मौत का सामान