जी हां...एवरेस्ट के शीर्ष पर अब लगेगी सीढ़ी - जी हां...एवरेस्ट के शीर्ष पर अब लगेगी सीढ़ी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जी हां...एवरेस्ट के शीर्ष पर अब लगेगी सीढ़ी

विश्व के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई करने वाले पर्वतारोहियों को सबसे आखिर में इसके शीर्ष पर चढ़ने के लिए हिलेरी स्टेव नामक 40 फुट लंबी एक सीधी चढ़ाई से गुजरना पड़ता है। पर्वतारोहियों की सुविधा का ध्यान रखते हुए अब इस पर सीढ़ी लगाने की तैयारी चल रही है।

एड़मंड हिलेरी और तेनिजंग नोरगे ने 29 मई 1953 को एवरेस्ट की चोटी फतह करने से पहले इसी चढ़ाई से गुजरना पड़ा था। इसे बाद में हिलेरी स्टेव का नाम दे दिया गया। सर हिलेरी और शेखा नोरगे ने 60 वर्ष पहले बहुत कम औजारों की मदद से इस सीधी चढाई को फतह कर लिया था।

हालांकि मौजूदा समय में पर्वतारोही पहले से लगाई गई रस्सियों की मदद से इस पर चढते हैं। एवरेस्ट आने वाले पर्वतारोहियों की संख्या में इजाफा होने से हिलेरी स्टेव पर सीढ़ी लगाने का विचार किया जा रहा है।
 
गार्डियन दैनिक ने नेपाल के पर्वतारोही संचालक संघ के सदस्य दावा स्टीवेन शेखा के हवाले से इस संबंध में जानकारी दी। शेखा स्टीवेन ने कहा कि हम हिलेरी स्टेव पर सीढी लगाने का विचार कर रहे हैं, लेकिन यह विवादास्पद मुद्दा है।

उन्होंने कहा कि हिलेरी स्टेव से एक बार में सिर्फ एक पर्वतारोही गुजर सकता है, तो यहां अक्सर ट्रैफिक जाम लग जाता है। अगर पर्वतारोही इस इलाके में दो तीन अथवा चार घंटों तक फंसे रहते है तो मौसम के मिजाज को देखते हुए यह गंभीर खतरे की बात हो सकती है। चढाई को आसान बना देना नैतिक दृष्टि से उचित नहीं है, लेकिन यह सुरक्षा के लिहाज से बेहद आवश्यक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जी हां...एवरेस्ट के शीर्ष पर अब लगेगी सीढ़ी