DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अरुण जेटली की फोन टैपिंग नहीं की गई: गृह मंत्री

राज्यसभा में गैर कांग्रेसी दलों द्वारा विपक्ष के नेता अरुण जेटली का फोन टैप किये जाने के मामले में गंभीर चिंता जताये जाने के बीच सरकार ने फोन टैपिंग की संभावना से इंकार कर दिया। सरकार ने कहा कि वह अनधिकृत रूप से काल डाटा रिकार्ड हासिल करने के मामले की तह तक जायेगी और यथाशीध्र सत्य को सामने लायेगी।

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने जेटली का फोन अनधिकृत रूप से टैप किये जाने के मामले में सदन में दिये गये बयान में कहा कि दिल्ली पुलिस की छानबीन से पता चला है कि यह टैपिंग नहीं, बल्कि काल डाटा रिकार्ड तक पहुंचने का मामला है। इसमें किसी फोन पर आये काल और उससे किये गये काल के नंबरों का डाटा लिया जाता है।

उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय ने इस मामले में पुलिस से रिपोर्ट देने को कहा था। दिल्ली पुलिस ने बताया कि एयरटेल के नोडल अधिकारी के पास दिल्ली पुलिस के सहायक पुलिस अधीक्षक अभियान के ईमेल आईडी से किसी व्यक्ति ने जेटली के काल डाटा रिकार्ड मंगवाये थे। नोडल अधिकारी ने इस अनुरोध की जब पुलिस से पुष्टि करने को कहा तो पता चला कि ऐसा कोई अनुरोध अधिकत रूप से भेजा ही नहीं गया। इस लिए जेटली के काल डाटा रिकार्ड का खुलासा भी नहीं किया गया।

शिंदे ने बताया कि पांच सेल नंबरों के काल डाटा रिकार्ड अनधिकृत रूप से मांगने के मामले में पुलिस ने 14 फरवरी को प्राथमिकी दर्ज की। उन्होंने बताया कि छानबीन से पता चला कि संसद मार्ग थाने में तैनात सिपाही अरविन्द कुमार डबास के आईपी एड्रेस से यह ईमेल भेजी गयी थी। यह सिपाही एक साल से अनधिकृत रूप से ड्यूटी से गैर हाजिर था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अरुण जेटली की फोन टैपिंग नहीं की गई: गृह मंत्री