DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जन अदालत में माओवादियों ने छोड़ा राजपाल को

हरहिरगंज। प्रतिनिधि। भाकपा (माओवादी) और टीपीसी में विवाद फिर से गहराने लगा है। हरहिरगंज थानाक्षेत्र सह पिपरा प्रखंड के गहौरा निवासी राजपाल सिंह को टीपीसी कैडर मानते हुए माओवादियों ने मंगलवार को अगवा करने के बाद 24 घंटे तक अपने साथ रखा।

बुधवार की रात में पिपरा-छतरपुर के सीमावर्ती जंगल में जनअदालत लगाकर माओवादियों ने राजपाल सिंह को पत्नी, सास और भाई सहित गांव वालों के सामने जुर्म कबूल करवाया। साथ ही भविष्य में अपनी हरकतों में सुधार लाने की चेतावनी देकर राजपाल को परिजनों के हवाले कर दिया। जन अदालत का नेतृत्व माओवादियों के कोयल-सोन जोन के प्रवक्ता उदयन सिंह ने किया। उदयन सिंह के अनुसार राजपाल ने गहौरा के शांति देवी, संतन बिगहा के मिथिलेश सिंह और महुआदोहर के अलखदेव सिंह की पिटाई की है।

साथ ही पिछुलिया के धर्मेन्द्र यादव और सीताबांध के लखन यादव के घर में ताला लगाने समेत कई कांडों में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। दो माह से टीपीसी दस्ता में चल रहा था राजपाल-उदयन सिंह के अनुसार टीपीसी दस्ता में दो माह से रहने की बात बताते हुए राजपाल स्वीकार किया है कि टीपीसी के सिकंदर जी पुलिस के बड़े अधिकारियों से हमेशा बात करते हैं। पुलिस भी टीसीसी के कामों में कोई बाधा नहीं पहुंचाती है। टीपीसी का दो दस्ता छतरपुर-पिपरा के इलाके में सक्रिय है।

दोनों दस्ता के 12 से 15 सदस्यों के पास करीब 20 हथियार है। जोनल कमांडर चतरा के विरेन्द्र जी हैं। इसके अलावे चंदन जी, शैलेश जी, विजय जी आदि दस्ता में हैं। लेवी वसूले जाने की दी है जानकारी-उदयन सिंह के अनुसार राजपाल ने स्कूल के हेड़ाास्टर और शिक्षकों, डीलरों और मुखिया से लेवी वसूलने की जानकारी भी माओवादियों को दी है। साथ नवीनगर (औरंगाबाद) प्रखंड के एक पूर्व मुखिया द्वारा राजदिरिया में टीपीसी के एक दस्ता के लिए पैसा और जूता पहुंचाने की भी जानकारी दी है।

साथ ही खुलासा किया है कि पिपरा/तेनुडीह के तीन मुहान टीपीसी ने ही युवक को मारा था। युवक चनोखर गांव का अनिल शर्मा था। माओवादियों अनिल शर्मा का माओवादियों से कोई भी संबंध से इंकार किया है। राजपाल के अनुसार मोटरसाइकिल लूटने के लिए टीपीसी ने अनिल शर्मा को मारा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जन अदालत में माओवादियों ने छोड़ा राजपाल को