DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सशक्त होंगे महिला स्वयं सहायता समूह

चिरिया। संवाददाता। महिलाओं को जीविकोपार्जन से जोड़ने के लिए राज्य सरकार केन्द्र के साथ मिलकर राज्य में आजीविका कार्यक्रम चला रही है। इस बात की जानकारी देते हुए राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मशिन के सीइओ पारितोष उपाध्याय ने बताया कि फिलहाल इस मशिन के तहत झारखंड के सात प्रखंडों का चयन किया गया है। शुक्रवार को मशिन के सीइओ श्री उपाध्याय प्रखंड में चल रही स्वयं सहायता समूहों की कार्यशैली का निरीक्षण करने के लिए पांच सदस्यीय टीम के साथ मनोहरपुर के सिमिरिता, पंचपहिया तथा फुलवारी का दौरा किया।

श्री उपाध्याय ने बताया कि मशिन के तहत राज्य में प्रथम चरण में समूह गठन कर उसे सशक्त बनाया जाएगा। द्वितीय चरण में समूह के बचत को बैंक से लिंक किया जाएगा तथा आजीविका की गतिविधियों से जोड़ा जाएगा। उन्होंने बताया कि इस कार्य के लिए राज्य स्तर पर सात प्रखंड मनोहरपुर, गोइलकेरा, खुंटपानी, पाकुडिम्या, महेशपुर, अनगड़ा तथा नामकूम प्रखंड को चुना गया है। फिलहाल, राज्य के सात प्रखंडों में एसएचजी के कार्यशैली को देखने के लिए आंध्र प्रदेश के 22 टीम जिसमें से 40 लोग आये हुए हैं।

राज्य में मशिन के तहत एक मॉडल बनाया जाएगा, जिसमें प्रखंड से जिला स्तर पर कार्य की देखरेख के लिए विशेषज्ञों की टीम रहेगी। मौके पर बीडीओ संजय पांडेय, एसएम पांडिया, बी प्रभाकर, राजीव रंजन, रामराय बानरा तथा जेवियर एक्का शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सशक्त होंगे महिला स्वयं सहायता समूह