DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आपके सुझाव से जीडीए करेगा प्लानिंग

गाजियाबाद। वरिष्ठ संवाददाता। जीडीए के इतिहास में पहली बार 15 मई से फेसबुक अकाउंट की शुरुआत होगी। 2007 के असफल प्रयास के बाद एक बार फिर पूरी तैयारी के साथ कॉल सेंटर भी शुरू किया जा रहा है। यह घोषणा जीडीए वीसी ने शनिवार को आरडब्ल्यूए के दर्जनों पदाधिकारियों के बीच की। जीडीए का फेसबुक यूजरनेम जीडीएगाजियाबाद रखा गया है। जीडीए की कार्यप्रणाली अब और पारदर्शी हो जाएगी।

जीडीए के इंजीनियर अकेले प्लानिंग नहीं करेंगे। आम लोगों के सुझाव और आइडिया को शामिल करने के बाद ही प्लानिंग की जाएगी। जीडीए चेयरमैन संतोष यादव ने पदभार संभालते ही जीडीए का फेसबुक अकाउंट और कॉल सेंटर खोलने का दावा किया था। यह भी कहा कि यह अकाउंट 24 घंटे ऑनलाइन रहेगा। इस अकाउंट में जाम से निजात के लिए आइडिया अपलोड किया जा सकेगा।

प्राधिकरण से शिकायत की जा सकेगी। जाम के फोटो अपलोड किए जा सकेंगे। अवैध निर्माण के फोटो अपलोड किए जा सकेंगे। जीडीए चेयरमैन ने कहा कि युवाओं के इस देश में किसी की भी क्षमता कम नहीं आंकी जा सकती। जीडीए शहर के लोगों के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कराता है।

ऐसे में लोगों का सुझाव लिए बगैर पुल, पार्क, पार्किंग, सड़क, आवास, नक्शा, मनोरंजन केंद्र आदि नहीं बनाए जा सकते। अब जीडीए में जो भी होगा आम लोगों की मर्जी से होगा। सबकी रजामंदी के बाद ही विकास कार्य कराए जाएंगे। सोशल नेटवर्किंग के माध्यम से जीडीए महानगर के लोगों से कनेक्ट रहेगा।

अगर किसी के पास मेरठ तिराहा, हिंडन, मोहननगर, लालकुआं के जाम से निजात पाने के लिए कोई आइडिया है तो फेसबुक के माध्यम से जीडीए को बता सकता है। जीडीए के इंजीनियर्स उस आइडिया पर काम करेंगे। फिजीबिल्टी रही तो उस आइडिया पर काम किया जाएगा। आइडिया देने वाले को सम्मान भी मिलेगा।

हर तरह शिकायतें की जा सकेगीजीडीए से लोगों को काफी शिकायतें रहती हैं। आवंटन, रजिस्ट्री, अतिक्रमण, अवैध निर्माण, गलत निर्माण, नक्शा पास नहीं हो रहा, बाबू तंग कर रहा वगैरा-वगैरा। अब लोग अपनी शिकायतें फेसबुक पर अपलोड कर सकेंगे। जीडीए ने क्या कार्रवाई की।

कार्रवाई पर शिकायतकर्ता की क्या राय है यह सब ऑन लाइन अपलोड रहेगा। कोई भी इसे देख-समझ सकेगा। जीडीए चेयरमैन ने दावा किया है कि एक माह के अंदर जीडीए की वर्किंग में सुधार देखने को मिलेगा। प्रभावी कार्यप्रणाली के लिए की गई आउटसोर्सिगजीडीए को पूरी तरह कंप्यूटराइज्ड करने के लिए आउटसोर्सिग की जाएगी।

फेसबुक, मोबाइल नंबर और कॉल सेंटर को निजी कंपनी ऑपरेट करेगी। वीसी ने बताया कि जीडीए में ही स्थान उपलब्ध करा कर कॉल सेंटर खुलवाया जा रहा है। प्राइवेट कंपनी के हाथों कॉल सेंटर की बागडोर रहेगी लेकिन नियंत्रण प्राधिकरण के सक्षम अफसर के हाथों में रहेगा।

कॉल सेंटर का एक नंबर सार्वजनिक किया जाएगा जिसके पांच एक्सटेंशन होंगे ताकि कॉल करने वालों को कम से कम वेटिंग ङोलनी पड़े। यही टीम फेसबुक और टेलीफोन नंबर को ऑपरेट करेगी। एसएमएस और फेसबुक अपलोड को संबंधित अफसरों तक पहुंचाने के साथ-साथ की गई कार्रवाई अपलोड करने की जिम्मेदारी भी कॉल सेंटर कर्मियों के हाथों होगी।

एसएमएस करने वालों का मोबाइल रिकॉर्ड में रखा जाएगा ताकि कार्रवाई से अपडेट कराया जा सके। जीडीए वीसी ने बताया कि कॉल सेंटर के लिए तेजी से प्रयास किए जा रहे हैं। जल्द ही जीडीए का कॉल सेंटर खोल लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आपके सुझाव से जीडीए करेगा प्लानिंग