DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एकल यूनिट पर अपार्टमेंट बंद होने से प्रॉपर्टी रेट धड़ाम

गाजियाबाद। सत्यदेव यादव। एकल यूनिट पर अपार्टमेंट्स का निर्माण बंद किए जाने का व्यापक प्रभाव देखने को मिलने लगा है। जिन्होंने टोकन मनी दे रखा है वो बेचैन हैं। बिल्डर लॉबी जीडीए चेयरमैन पर आदेश वापस लेने का दबाव बनाने के लिए लामबंद हो रही है। इस बीच एकल यूनिट पर बने अपार्टमेंट्स में फ्लैट्स की कीमत खरीददारों के मुंह मोड़ लेने से तेजी से नीचे गिर रही है।

75 से 80 वर्ग मीटर के फ्लैट्स जो कल तक 32 से 35 लाख रुपये में बेचे जा रहे थे आज उनकी कीमत 25 से 28 लाख रुपये हो गई है। कई बिल्डर रेट तोड़ने को राजी हो गए हैं। जीडीए विकास सीमा में कम से कम तीन हजार एकल यूनिट पर अपार्टमेंट्स बनाए जा रहे हैं।

पांच फ्लैट का भी औसत रखें तो 15 हजार फ्लैट निर्माणाधीन हैं। फ्लैट की औसत कीमत 25 लाख रुपये भी हो तो 375 करोड़ रुपये इस क्षेत्र में लगे हुए हैं। ऐसे में बेचैनी और बौखलाहट तो होगी ही। जीडीए चेयरमैन संतोष यादव ने एकल यूनिट के संदर्भ में अपने आदेश पर अड़े रहने का दावा भी किया है।

यानी इस क्षेत्र में फंसा पैसा कम से कम दो साल तक फंसा रहेगा। बिल्डर गणित लगाने में जुटे हैं। दो साल तक फ्लैट नहीं बेचने का फैसला आर्थिक नुकसान पहुंचा सकता है। मंझोले स्तर के एक बिल्डर ने कहा कि मार्केट हर दिन बदल रहा है। फ्लैट नहीं बिके तो कई तरह की परेशानियां खड़ी हो सकती हैं।

दो साल में अभिकरणों की आवासीय स्कीम ठीक-ठाक स्तर पर लांच की जाएंगी। आवास विकास, यूपीएसआईडीसी, जीडीए की कई योजनाएं सूचीबद्ध हैं। खरीददारों का रुख बदल सकता है। इसके अलावा बैंकों से लोन भी निवेशकों को बेचैन कर रहा है। एकल यूनिट पर अपार्टमेंट्सका निर्माण छोटे या मंझोले बिल्डर करा रहे हैं।

जो दो साल का झटका ङोलने की स्थिति में नहीं हैं। बड़ा कारण यह है कि अगर संतोष यादव का कार्यकाल अधिक समय तक रह गया तब क्या होगा। दूसरा नए वीसी ने एकल यूनिट का आदेश जारी रखा तब? इन कारणों से ही एकल यूनिट पर फ्लैट की कीमत मोलभाव कर तय की जाने लगी है।

35 लाख से 25 लाख गिरा रेटएकल यूनिट पर बने अपार्टमेंट्स में फ्लैट्स की कीमत औधे मुंह गिरी है। 75 से 80 वर्ग मीटर का एमआईजी फ्लैट्स जो कल तक 32 से 35 लाख रुपये में बेचे जा रहे थे वही आज 25 से 28 लाख रुपये में मोलभाव कर बेचे जा रहे हैं। बिल्डर बता तो रहे हैं 35 लाख लेकिन मोलभाव जोरदार तरीके से किया जा रहा है। ‘

बंद होगी रजिस्ट्री.. आई मीन इट’जीडीए चेयरमैन संतोष यादव ने शनिवार को सभागार में डीएम अपर्णा उपाध्याय, नगरायुक्त जितेंद्र सिंह और आरडब्ल्यूए के दर्जनों पदाधिकारियों के सामने ठोक बजाकर कहा कि चाहे जो हो जाए एकल यूनिट पर बने अपार्टमेंट्स की रजिस्ट्री नहीं होगी।

टेबल बजा कर यादव ने अंग्रेजी में दोहराया आई मीन इट। दो दिन में रजिस्ट्री बंद करने का प्रारूप तैयार हो जाएगा। इन कॉलोनियों में होता रहा है धड़ल्ले से निर्माणसूर्यनगर, चंद्रनगर, रामप्रस्थ, ब्रिज विहार, वसुंधरा, वैशाली, कौशांबी, इंदिरापुरम, साहिबाबाद, राजेंद्रनगर, लाजपतनगर, तुलसीनिकेतन, शालीमार गार्डन, राजीव कॉलोनी, भोपुरा डीएलएफ, पसौंड़ा, नेहरूनगर, राजनगर, कविनगर, गोविंदपुरम, चिरंजीवविहार, शास्त्रीनगर, नंदग्राम, गांधीनगर, अशोकनगर, पटेलनगर

फ्लैट्स रेट मोलभाव के बाद रेटः एलआईजी 19 से 25 15 से 20एमआईजी 32 से 35 25 से 28एचआईजी 40 से अधिक 32 नोट : कीमत लाख रुपये में। अलग-अलग कॉलोनियों में रेट में अंतर है।

कीमत गिरने के कारण-एकल यूनिट पर फ्लैट बनाकर बेचने वाले छोटे बिल्डर हैं-ये बिल्डर बड़ा झटका नहीं ङोल सकते-जीडीए चेयरमैन अपने फैसले पर अड़े हैं-मार्केट हर दिन बदल रहा है। फ्लैट नहीं बिके तो परेशानी हो सकती है-दो साल में अभिकरणों की कई आवासीय स्कीम ठीक-ठाक स्तर पर लांच की जाएंगी-आवास विकास, यूपीएसआईडीसी, जीडीए की कई योजनाएं सूचीबद्ध हैं-खरीददारों का रुख बदल सकता है-बैंकों से लोन भी निवेशकों को बेचैन कर रहा है-

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एकल यूनिट पर अपार्टमेंट बंद होने से प्रॉपर्टी रेट धड़ाम