DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अहलुवालिया से प्रदेश भाजपा खुश नहीं

रांची विशेष संवाददाता। एसएस अहलुवालिया को लेकर प्रदेश भाजपा में नाराजगी है। शनिवार को भाजपा विधायक दल की बैठक में 19 (मनोनीत सहित) में से दस विधायक ही पहुंचे। इस वजह से सिर्फ एक सेट में अहलुवालिया नामांकन कर पाए। शुक्रवार को रांची पहुंचने पर प्रदेश का कोई प्रमुख नेता या पार्टी पदाधिकारी अहलुवालिया की अगुवाई में नहीं पहुंचा था।

उम्मीदवार के पक्ष में नहीं था : प्रदेश भाजपा के प्रमुख नेता नहीं चाहते थे कि रास चुनाव में पार्टी उम्मीदवार दे। दिल्ली के दबाव में उन्हें निर्णय मानना पड़ा। अंशुमन मिश्र तक के नामांकन में पार्टी के विधायक और पदाधिकारी सक्रिय थे। उस समय भी नामांकन से पहले भाजपा विधायक दल की बैठक हुई थी, जिसमें लगभग सभी विधायक मौजूद थे। इस बार सब कुछ बेहद सामान्य तरीके से हो रहा है।

उम्मीदवार को लेकर परेशानी : एक तरफ भाजपा विधायक दल की बैठक चल रही थी, तो दूसरी तरफ पार्टी कार्यालय में मौजूद नेता अपने ही नेतृत्व के निर्णय पर सवाल खड़े कर रहे थे। कुछ का कहना था कि पहले अंशुमन मिश्र को भेजकर पार्टी ने फजीहत कराई। अब अहलुवालिया को भेज दिया, जो जीतने के बाद झारखंड लौटते नहीं।

एक ने कहा कि अहलुवालिया पिछले छह साल में तीन बार रांची आए हैं।नाराजगी’ विधायक दल की बैठक में दस विधायक ही पहुंचे’ छह साल में तीन बार झारखंड आए अहलुवालियाभाजपा का लक्ष्य जीत है। पार्टी के पक्ष में समीकरण है। विधायकों को एक दिन पहले रांची आने के लिए कहा गया था। लगन का भी समय है। इस वजह से कुछ विधायक नामांकन में नहीं आ पाए। डॉ दिनेशानंद गोस्वामी, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अहलुवालिया से प्रदेश भाजपा खुश नहीं