DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

समुद्र से उड़ान भर सकेगी अग्नि-6

अग्नि-5 के सफल परीक्षण के बाद रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन (डीआरडीओ) अब अग्नि के एक नए संस्करण की तैयारी में जुट गया है।

अग्नि मिसाइल को समुद्र से भी दुश्मन के ठिकानों पर मार करने में सक्षम बनाया जाएगा। डीआरडीओ के वैज्ञानिक अग्नि के सबमरीन संस्करण पर जल्द काम शुरू करने वाले हैं। इसके पीछे वैज्ञानिकों की कोशिश देश की समुद्री सीमा को भी चौकस बनाने की है।

डीआरडीओ के प्रमुख वी. के. सारस्वत ने यहां प्रेस कांफ्रेस में बताया कि अग्नि-5 के सबमरीन वर्सन अब डीआरडीओ का अगला लक्ष्य है। अग्नि के इस नए संस्करण का नाम अग्नि-6 रखा जा सकता है हालांकि अभी इसका फैसला नहीं हो पाया है।

दरअसल, कुछ समय पूर्व डीआरडीओ ने समुद्री सीमा पर विशेष ध्यान देते हुए पनडुब्बी को भी परमाणु सुरक्षा से लैस करने की दिशा में कदम उठाए हैं। स्वदेशी पनडुब्बी अरिहंत का निर्माण किया है। लेकिन इसमें जो मिसाइलें लगी हैं वे कम क्षमता की हैं। यदि इस पनडुब्बी में अग्नि-5 को तैनात किया जाता है तो फिर अरिहंत की क्षमता कई गुना बढ़ जाएगी। लेकिन अग्नि को मौजूदा स्वरूप में इसमें फिट नहीं किया जा सकता है। इसके लिए उसमें कुछ बदलाव करने होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:समुद्र से उड़ान भर सकेगी अग्नि-6