DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आपका चायवाला भी कर सकता है आईआईएम में पढ़ाई

आप जिस चायवाले की दुकान पर चाय पीते हैं, हो सकता है वह आने वाले दिनों में देश के सबसे प्रतिष्ठित प्रबंधन संस्थान में पढ़ाई कर रहा हो। वह भी कैट (कॉमन एडमिशन टेस्ट) जैसी परीक्षा को पास किए बिना। दरअसल, आईआईएम ऐसे इंटरप्रिन्योर जिनकी पढ़ाई-लिखाई तो अधिक नहीं है पर उन्होंने अपने आइडिया से एक नया मुकाम बनाया है, उनके लिए खास प्रोग्राम शुरू करने जा रहा है।

आईआईएम रांची के निदेशक एम.जे.जेवियर ने बताया कि संस्थान शहर-कस्बे के करिश्माई इनोवेटर के लिए इंटरप्रिन्योरशिप पर एक सर्टिफिकेट प्रोग्राम शुरू करने जा रहा है। इसकी अवधि तीन से छह माह के बीच होगी। इस प्रोग्राम का मकसद शैक्षणिक संस्थानों के बाहर और आम आदमी द्वारा किए जा रहे इनोवेशन को बढ़ावा देना है।

उन्होंने कहा कि अक्सर देखने में आता है कि प्रबंधन की पढ़ाई करने वाले कई लोग अपने हुनर की बदौलत मैनेजमेंट की नई परिभाषा गढ़ते हैं। इस नए प्रोग्राम के तहत क्षेत्र के कुछ ऐसे ही आम इनोवेटर या माइक्रोइंटरप्रिन्योर को ट्रेनिंग दी जाएगी। कुछ लोगों को मास्टर ट्रेनर के तौर पर तैयार किया जाएगा, जो प्रशिक्षण के क्रम को आगे बढ़ाएंगे। आईआईएम में उन्हें बाजार की रणनीति व कॉरपोरेट ट्रेनिंग के बारे में बताया जाएगा।

जेवियर ने कहा कि इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए यह प्रोग्राम बेहतरीन मॉडल में से एक होगा। वैसे आईआईएम छात्रों के लिए इंटरप्रिन्योरशिप के प्रोग्राम चलाता है। आईआईएम बेंगलुरू इंटरप्रिन्योरशिप और पब्लिक पॉलिसी में स्पेशलाइज्ड प्रोग्राम चलाता है। आईआईएम अहमदाबाद ने इंटरप्रिन्योरशिप को बढ़ावा देने के लिए आई-एक्सलरेटर प्रोग्राम शुरू किया है। अन्य आईआईएम ने इनोवेशन के लिए इंक्यूबेशन सेंटर खोले हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आपका चायवाला भी कर सकता है आईआईएम में पढ़ाई