DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अगवा विधायक जन अदालत में पेश

बीजू जनता दल के अगवा विधायक झिना हिकाका की रिहाई की अब तक की कोशिशें नाकामयाब रही हैं। माओवादियों ने बुधवार को हिकाका को जन अदालत में पेश कर दिया।

यह अदालत कोरापुट जिले के नारायण पटना इलाके के जंगल में लगाई गई है। हालांकि ओडिशा सरकार ने बुधवार को घोषणा की थी कि विधायक की रिहाई के एवज में वह 13 कैदियों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने को तैयार है। अदालत में माओवादियों के मुकदमों की पैरवी करने वाले वकील निहार रंजन पटनायक ने बताया कि आंध्र-ओडिशा सीमा विशेष क्षेत्रीय समिति ने जन अदालत में हिकाका से पूछताछ शुरू कर दी है। विधायक हिकाका के खिलाफ माओवादियों की अदालत में आरोप लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। आदिवासियों समेत तमाम लोगों को बयान दर्ज कराने के लिए बुलाया गया है। हालांकि इस बात का अंदाजा नहीं है कि इस अदालत की कार्यवाही कब तक चलेगी और विधायक के भाग्य पर क्या फैसला लिया जाएगा।

माओवादियों की ओर से जन अदालत की कार्यवाही तब शुरू की गई है जब उनकी मांगों को मानने के लिए दी गई अंतिम समय सीमा बुधवार शाम पांच बजे खत्म हो गई।

सरकार के झुकने का असर नहीं: माओवादियों की मांग के आगे झुकते हुए ओडिशा सरकार ने घोषणा की थी कि वह 13 कैदियों के खिलाफ मुकदमा वापस लेने को तैयार है। इनमें से पांच माओवादी हैं। 24 मार्च को माओवादियों ने लक्ष्मीपुर विधान सभा से 37 साल के विधायक झिना हिकाका को अगवा कर लिया था। तब से विधायक को माओवादियों के कब्जे से छुड़ाने की कोशिशें जारी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अगवा विधायक जन अदालत में पेश