DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोमतीनगर टर्मिनल परियोजना बहाल

रेलवे बोर्ड के सदस्य यातायात के के श्रीवास्तव ने गुरुवार को कहा कि गोमतीनगर टर्मिनल परियोजना पर अगले शाम से काम शुरू हो जाएगा। रेलवे बोर्ड ने प्रस्तावित टर्मिनल को दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन की तर्ज पर विकसित करके की कवायद शुरू कर दी है। पिंक बुक में पूवरेत्तर रेलवे की इस योजना को पुनर्जीवित करते हुए एक लाख रुपया भी आवंटित किया गया है।

चारबाग स्टेशन व लखनऊ जंक्शन पर ट्रेनों का अत्यधिक दबाव बनने के बाद वर्ष 1998 में गोमतीनगर हाल्ट स्टेशन को क्रासिंग स्टेशन बनाने के साथ ही वहाँ अत्याधुनिक टर्मिनल बनाने की योजना का प्रस्ताव किया था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने करीब 73 करोड़ की इस परियोजना का 10 सितम्बर 1998 को शिलान्यास किया था।

परियोजना के स्वीकृत होने के बाद उस पर 44 करोड़ रुपए भी खर्च कर दिए गए। डीआरएम रहते हुए केके श्रीवास्तव ने इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए भरसक कोशिश की थी। परियोजना का काम चल ही रहा था कि केन्द्र सरकार बदल गई। अटल जी के प्रधानमंत्री पद से हटने के बाद से ही इस परियोजना पर संकट के बादल छा गए थे।

रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव के कार्य सम्भालने के बाद एनईआर के जीएम जेपी बत्र जब रेलवे बोर्ड के चेयरमैन बने तो सबसे पहले उन्होंने गोमतीनगर टर्मिनल को फ्रीज करते हुए इसे पूरी तरह अनुपयोगी बता दिया। बीते साल एनईआर के तत्कालीन जीएम यूसी द्वादस श्रेणी ने गोमतीनगर टर्मिनल के लिए दोबारा प्रस्ताव भेजा था।

रेलवे बोर्ड का सदस्य यातायात बनने पर के के श्रीवास्तव ने इस परियोजना को पुनर्जीवित कराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। उन्होंने बताया कि बंद परियोजना को दोबारा चालू होने में समय भले ही लगे लेकिन गोमतीनगर में हर हाल में टर्मिनल बनाया जाएगा। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि इस परियोजना को अमलीजामा मिलने से लाखों लोगों को फायदा मिलेगा।

ट्रांसगोमती को सर्वाधिक फायदा
ट्रांसगोमती क्षेत्र के लोगों को इस टर्मिनल से सबसे ज्यादा फायदा होगा। उन्हें गोमतीनगर से ही लम्बी दूरी की ट्रेनें पकड़ने की सुविधा मिलेगी। ट्रेनों की मेंटीनेंस करने व बेडरोल आदि रखने का काम भी यहीं से किया जाएगा। यहां से ट्रेन चलने के बाद चारबाग या लखनऊ जंक्शन पर सिर्फ यात्रियों को बैठाने के लिए रुकेगी।

क्या-क्या होगा
हाल्ट स्टेशन की जगह पूर्ण विकसित टर्मिनल बनेगा
दो दजर्न ट्रेनों के संचालन के लिए होगी व्यवस्था
सभी मेल एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव होगा
प्लेटफार्मो को जोड़ने के लिए पैदल पुल बनेगा
चार लाइनों का टर्मिनल होने के साथ ही प्लेटफार्म भी ऊँचे होंगे
गोमतीनगर से दिलकुशा के बीच एक लिंक लाइन भी बिछेगी
यहाँ से चलने वाली ट्रेनें सीधे चारबाग स्टेशन भी जा सकेंगी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गोमतीनगर टर्मिनल परियोजना बहाल