DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिकित्सक की राय पर टिकी है पीएम की भेंट

एम्स के आईसीयू में भर्ती गंगा सेवा अभियानम् के भारत प्रमुख स्वामी ज्ञानरूवरूप सानन्द से प्रधानमंत्री की भेंट, अब चिकित्सकों की राय पर टिकी है। पीएम हाउस को चिकित्सकों की हरी झंडी का इंतजार है। चिकित्सक स्वामी सानन्द को बातचीत करने योग्य घोषित करें तो पीएम भेंट करें।

अभियानम् के सार्वभौम संयोजक स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती की मानें तो प्रधानमंत्री कार्यालय से सकारात्मक संकेत ही मिल रहे हैं। एम्स प्रशासन से पीएम कार्यालय सम्पर्क बनाए हैं और स्वामी सानन्द के स्वास्थ्य की जानकारी ली जा रही है।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि हम इंतजार कर रहे हैं लेकिन इंतजार की भी एक सीमा होगी। स्वामी सानन्द ने बातचीत में पुन: जल न ग्रहण करने की बात कही है। वह अडिग हैं। उनका कहना है कि यदि सरकार को गंगा की अविरलता के लिए सार्थक कदम उठाने में दिक्कत है तो, मुझे आजाद कर दें। मुझे जिन्दगी की परवाह नहीं, मैं गंगा की अविरलता चाहता हूं ताकि करोड़ों भारतीयों की आस्था सबल हो।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने प्राधिकरण की बैठक में जो बातें हुई, उसकी जानकारी स्वामी सानन्द को दी। बातें सुनने के बाद स्वामी सानंद बेहद भावुक हो गए। उनकी जुबान थम गयी, आंखे डबडबा गयीं। कुछ क्षण बाद बोले, ‘पता नहीं मां गंगा का क्या होगा’ फिर बोले, गंगा की अविरलता जरूरी है। फिर सिर ऊपर कर मानों ईश्वर से सवाल पूछ रहे हों। भावुक हो कहा, गंगा की अविरलता जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चिकित्सक की राय पर टिकी है पीएम की भेंट