DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांधीजी के सामान की नीलामी पर कुछ प्रतिक्रियाएं

गांधीजी का चश्मा, चरखा और खून से सनी मिट्टी की नीलामी की खबर कुछ अखबारों के कोने में छपी दिखी, इस पर गांधी टोपी पहनकर माल काट रहे कुछ लोगों से प्रतिक्रियाएं ली गईं, जो कुछ इस तरह थीं। एक मंत्री- हां, तो क्या हुआ? गांधीजी, गांधीजी हैं, कोई शाहरुख खान तो हैं नही कि कोई उनका अपमान नहीं कर सकता। गांधीजी का तो पता नहीं, पर शाहरुख वाले मामले में हमने अमेरिकी दूतावास के सफाई कर्मी से बहुत ही कड़ी प्रतिक्रिया दर्ज करा दी है।

एक कांग्रेसी कार्यकर्ता- भाई, हम क्या बोलें इस पर। हम तो दो ही गांधी जानते हैं, एक सोनिया गांधी और दूसरा राहुल गांधी। वैसे बीच में थोड़ा प्रियंका गांधी के बारे में भी जानने की कोशिश की थी, पर पता चला कि वह फिलहाल पॉलिटिक्स में नही आ रहीं। वैसे भी गांधीजी के सिद्धांत तो पहले ही नीलाम हो चुके थे। उनका चरखा-वरखा नीलाम हो गया, तो क्या फरक पड़ता है?
एक अन्य नेता- हो जाने दीजिए नीलाम, उससे गांधीजी का सम्मान कम नहीं होने वाला। गांधीजी से हम लोग कितना प्रेम करते हैं किसी को बताने की जरूरत नहीं है। इसी प्रेम के वशीभूत होकर हम लोग दिन-रात गांधी छाप नोट इकट्ठा करने में लगे हुए हैं।
चाइनीज आइटमों का एक दुकानदार- देखो जी चश्में और चरखें तो हम कितने ला दें, वो भी बहुत कम कीमत पर। पर एक बात का ध्यान रखिएगा कि आइटम चाइनीज है, सो उसका कोई भरोसा नहीं है।

यूपी का एक नेता- गांधीजी की बात क्या करें हम? उनकी बिरादरी के तो वोट ही नहीं हैं हमारे एरिये में। जिन-जिन के वोट हमारे एरिये में हैं, उनके महापुरुषों के नाम पर बने पार्क और मूर्तियों के उत्पीड़न का हमने कड़ा विरोध किया है।

चैनल वाला बंदा- यार गांधी की टीआरपी नही है आजकल। ये पूनम पांडेय का नया सनसनीखेज वीडियो आया है, उसी को तान रहा हूं प्राइम टाइम पे। गांधीजी कई बार जेल गए थे, सो एक कैदी भी प्रतिक्रिया देने आ गया। कहा, नाम मत लो, उनकी वजह से ही आज जेल काटनी पड़ रही है। दरअसल, हजार-हजार के नोटों पर उनकी तस्वीर उल्टी छप गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गांधीजी के सामान की नीलामी पर कुछ प्रतिक्रियाएं