DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संजय दत्त की गिरफ्तारी का आदेश

मऊ। निज संवाददाता। लोकसभा चुनाव के दौरान भड़काऊ भाषण ने सिने अभिनेता संजय दत्त की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। बुधवार को जिला व सत्र न्यायाधीश ने निगरानी याचिका खारिज करते हुए उनकी गिरफ्तारी का आदेश दिया। पिछले साल न्यायिक मजिस्ट्रेट के गैर जमानती वारंट जारी करने पर संजू बाबा ने जिला जज की कोर्ट में निगरानी याचिका दाखिल की थी।

मामला एक साल तक लंबित रहा। बुधवार को जिला व सत्र न्यायाधीश ने संजय दत्त के खिलाफ जारी न्यायिक मजिस्ट्रेट का गैर जमानती वारंट बहाल कर उन्हें गिरफ्तार करने का आदेश दिया। सनद रहे, वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव के दौरान मऊ शहर के आजाद ग्राउंड में सपा की चुनावी सभा में सिने अभिनेता ने भड़काऊ बयान दिया था।

उन्होंने कहा था-‘मेरी मां मुस्लिम थीं इसलिए टाडा में पुलिस ने मेरे ऊपर थर्ड डिग्री का प्रयोग किया।’ उनके बयान को चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए दक्षिणटोला थाने के तत्कालीन थानाध्यक्ष लालजी सरोज ने 14 अप्रैल, 2009 को संजय दत्त व सपा प्रत्याशी अरशद जमाल के विरुद्ध भादवि की धारा 171 च और 125 लोकप्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया था।

इसकी विवेचना की जिम्मेदारी अमरनाथ सिंह को सौंपी गयी थी। इस सिलसिले में न्यायिक मजिस्ट्रेट ने संजू बाबा को कई समन उनके निवास स्थान तथा वकालतनामे के पते पर भेजा। बावजूद इसके संजय दत्त एक भी तारीख पर अदालत में हाजिर नहीं हुए।

उनके खिलाफ न्यायिक मजिस्ट्रेट कृष्ण कुमार ने 28 मई, 2011 को गैर जमानती वारंट जारी करने का निर्देश दिया था। उस तारीख पर संजय दत्त को कोर्ट में पेश होना था लेकिन वह नहीं आये। इससे पहले ही वह तीन तारीखों पर हाजिर नहीं हुए थे।

न्यायालय ने इसे गंभीरता से लिया। कोर्ट ने उनके विरुद्ध गैर जमानती वारंट जारी किया था। सिने अभिनेता के अधिवक्ता कुंवर सिद्धार्थ सिंह ने पिछले समन के खिलाफ जिला जज की कोर्ट में निगरानी याचिका दाखिल की थी। इस पर एक वर्ष तक चली सुनवाई के बाद जिला जज ने बुधवार को इसे खारिज कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संजय दत्त की गिरफ्तारी का आदेश