DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हादसे में मरने वालों की संख्या 12

जालंधर में कारखाने की इमारत गिरने की वजह से अब तक कम से कम 12 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि तीन के मरने की पुष्टि अभी तक नहीं हुई है। मलबे में अभी भी कई लोगों के फंसे होने की आशंका है।

जालंधर के जिलाधिकारी प्रियांक भारती ने बुधवार को यहां बताया कि मलबे से अब तक कुल नौ शव निकाले जा चुके हैं जिनमें से छह की पहचान हो चुकी है। उनका पोस्टमार्टम भी कराया जा चुका है। आज तीन शव निकाले गए हैं जिनकी पहचान अभी नहीं हो पायी है।

उन्होंने कहा कि मरने वालों में चार व्यक्ति बिहार के जबकि दो पश्चिम बंगाल के हैं। हादसे में जान गंवाने वालों की शिनाख्त सरुप सरकार, प्रसेनजीत (दोनों जिला वर्दमान पश्चिम बंगाल), मुकेश कुमार, शिवशंकर (दोनों जिला आरा बिहार) अजीत कुमार (पूर्णिया बिहार) और प्रभात (मुजफ्फरपुर बिहार) के रूप में हुई है।

उन्होंने कहा कि राहत और बचाव कार्य में जुटी एनडीआरएफ की टीम ने मलबे में तीन और शवों को देखा है। उन्हें निकालना थोड़ा मुश्किल हो रहा है। जब तक उन्हें निकाल नहीं लिया जाता है तब तक हम उनके मरने की पुष्टि नहीं कर सकते।

दूसरी ओर मौके पर तैनात एनडीआरएफ के दलपति तथा कमांडेंट आरके वर्मा ने बताया कि हम लोगों ने तीन और शव का पता लगाया है लेकिन अभी उन्हें निकाला नहीं गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हादसे में मरने वालों की संख्या 12