DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोयला खान आवंटन में पारदिर्शता: जायसवाल

केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने बुधवार को इस बात को दोहराया कि संप्रग सरकार ने कोयला खान क्षेत्रों के आवंटन में 1993 में बनी नीति का अनुकरण किया।

साथ ही उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह की सरकार ही कोयला ब्लॉक के आवंटन में पारदर्शिता लायी। यहां एक संवाददाता सम्मेलन में जायसवाल ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि संप्रग-1 के समय जो भी कोयला ब्लॉक का आवंटन हुआ, उसमें राज्यों की सहमति थी।

आवंटन के बारे में निर्णय करने वाली चयन समिति की बैठक में मुख्य सचिव स्तर के अधिकारी मौजूद रहते थे। उन्होंने इस बात को दोहराया कि आवंटन में कोई अनियमितता नहीं हुई। वर्ष 1993 से 2009 के बीच 206 कोयला ब्लॉक का आवंटन किया गया।

आवंटन का उद्देश्य बढ़ती मांग को पूरा करने के लिये कोयला का उत्पादन बढ़ाना था। संप्रग सरकार ने सिर्फ स्थापित नियमों का अनुपालन किया। हालांकि जायसवाल ने इस बात पर अफसोस जताया कि कुछ लोगों ने कोयला ब्लॉक प्राप्त करने के बाद भी उत्पादन शुरू नहीं किया। इसके अलावा पुनर्वास समस्याओं के कारण कुछ कोयला ब्लॉक का परिचालन नहीं हो पाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोयला खान आवंटन में पारदिर्शता: जायसवाल