DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमल ने लगाई हैट्रिक

राजधानी के तीनों नगर निगमों पर भाजपा ने अपना झंडा बुलंद कर दिया है। पार्टी ने इस चुनाव में शानदार जीत हासिल कर फिर से सत्ता पर कब्जा कर लिया है। उत्तरी और पूर्वी निगम में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिला है। जबकि, दक्षिणी निगम में पार्टी को अन्य सहयोगियों की मदद लेनी पड़ेगी। वहीं, कांग्रेस को इस बार भी हार का मुंह देखना पड़ा है।

राज्य निर्वाचन आयुक्त राकेश मेहता के मुताबिक, कुल 272 सीटों के लिए हुए चुनावों में भाजपा को 138 और कांग्रेस को 78 सीटें मिली हैं। जीते हुए प्रत्याशियों की प्रति दो दिन के भीतर निगम आयुक्त को भेज दी जाएगी। इसके बाद एमसीडी के गठन की प्रक्रिया शुरू होगी। यह प्रक्रिया 21 अप्रैल तक पूरी की जानी है।

उधर, कांग्रेस को मिल रही एक के बाद एक हार ने पार्टी की चिंता बढ़ा दी है। उत्तर प्रदेश, पंजाब व गोवा विधानसभा समेत मुंबई महापालिका चुनाव में भी कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा है। इस साल के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं।

एमसीडी चुनाव यूं तो स्थानीय मुद्दों पर लड़े जाते हैं, पर देश की राजधानी होने की वजह से इन चुनावों का राष्ट्रीय महत्व भी होता है। प्रचार के दौरान कांग्रेस और भाजपा, दोनों ने ही भ्रष्टाचार और महंगाई जैसे राष्ट्रीय मुद्दों को भी उठाया था। मगर, महंगाई तमाम मुद्दों पर भारी पड़ी और कांग्रेस को इसकी कीमत भी चुकानी पड़ी।

हालांकि, कांग्रेस ने एमसीडी चुनाव में हार को ज्यादा तवज्जो नहीं दी है। पार्टी प्रवक्ता राशिद अल्वी का कहना है कि इस चुनाव परिणाम को स्थानीय परिदृश्य में देखा जाना चाहिए। कांग्रेस दिल्ली में लगातार तीन विधानसभा चुनाव जीत चुकी है और लोकसभा की सभी सात सीटें भी पार्टी के पास हैं, जबकि एमसीडी पर भाजपा का कब्जा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कमल ने लगाई हैट्रिक