DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस साल हुए चुनावों में कांग्रेस की लगातार पांचवी हार

उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा विधानसभा और मुंबई महापालिका चुनाव में हार के बाद दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) में करारी शिकस्त ने कांग्रेस को चिंता में डाल दिया है। इस साल के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा के चुनाव हैं। अगले कुछ माह में यूपी में स्थानीय निकायों  के चुनाव होने हैं और पार्टी को फिल्हाल हार का यह सिलसिला थमता नहीं दिख रहा है।

एमसीडी चुनाव में यूं तो बेहद स्थानीय मुद्दों पर लड़े जाते हैं, पर देश की राजधानी होने की वजह से इन चुनाव का राष्ट्रीय महत्व था। प्रचार के दौरान भी कांग्रेस और भाजपा ने भी राष्ट्रीय मुद्दों को उठाया। भाजपा ने जहां मंहगाई और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस को घेरने की कोशिश की, वहीं कांग्रेस ने सांप्रदायिकता और भाजपा शासित राज्यों में भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाया। पर मंहगाई तमाम मुद्दों पर भारी पड़ी और कांग्रेस को इसकी कीमत चुकानी पड़ी।
कांग्रेस मानती है कि एमसीडी चुनाव में हार का असर दिल्ली विधानसभा चुनाव पर भी पड़ सकता है। क्योंकि, पार्टी पिछले लगातार तीन बार जीत चुकी है। ऐसे में कांग्रेस विधायकों और सरकार के खिलाफ लोगों में कुछ नाराजगी स्वाभाविक है। जिसका भाजपा भरपूर फायदा उठाने की कोशिश करेगी। एमसीडी में जीत से भाजपा कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ा है।

हालांकि, कांग्रेस ने एमसीडी चुनाव में हार को ज्यादा तवज्जों नहीं दी है। पार्टी प्रवक्ता राशिद अल्वी का कहना है कि एमसीडी चुनाव के परिणामों को स्थानीय परिदृश्य में देखा जाना चाहिए। विधानसभा चुनाव पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। कांग्रेस लगातार तीन विधानसभा चुनाव में जीत रही है और लोकसभा की सभी सात सीट भी पार्टी के पास हैं। जबकि एमसीडी पर भाजपा का कब्जा था।
--
मई 2009 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद 16 राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं। कांग्रेस 16 राज्यों में से सिर्फ सात प्रदेशों में जीत दर्ज करा पाई है। बिहार, पंजाब और झारखंड जैसे प्रमुख राज्यों में पार्टी को हार का सामना करना पड़ा। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस गठबंधन की सरकार है। जबकि महाराष्ट्र में कांग्रेस-एनसीपी की सरकार है।

क्या हो सकता है
 एमसीडी चुनाव में हार के बाद मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को हटाने की मांग जोर पकड़ सकती है।
 मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और केंद्रीय मंत्री अजय माकन के खेमों में तनाव में बढ़ सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इस साल हुए चुनावों में कांग्रेस की लगातार पांचवी हार