DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगा की निर्मलता के लिए वाराणसी बंद

गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के मुद्दे को लेकर मंगलवार को वाराणसी बंद और महाकुम्भ का आयोजन किया गया है। इस मौके पर विभिन्न धर्मो और वर्गों के लोग घाटों पर एकत्र होकर गंगा के प्रति अपनी आस्था प्रकट कर रहे हैं।

वाराणसी के सभी बाजार, विद्यालय, व्यापारिक प्रतिष्ठान, अदालत, निजी दफ्तर लगभग बंद हैं। हजारों की संख्या में स्थानीय लोग गंगा को बचाने के लिए महाकुम्भ में शामिल होकर एकजुटता का प्रदर्शन कर रहे हैं। अलग-अलग घाटों पर हजारों की संख्या में शैक्षिक, सामाजिक, साहित्यिक, व्यापारिक और अन्य संगठनों के लोग स्नान करके महाकुम्भ में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं।

महाकुम्भ अभियान में शामिल देव दीपावली महासमिति काशी के अध्यक्ष आचार्य वागीश दत्त शास्त्री ने संवाददाताओं से कहा, ''हम लोग आज बिना महाकुम्भ के महाकुम्भ मनाकर यह संदेश देना चाहते हैं कि प्राणदायिनी गंगा को बचाने के लिए सभी एकजुट हैं।''

शास्त्री ने कहा, ''विभिन्न धर्म और वर्ग के लोग, महिलाएं, विद्यार्थी, अधिवक्ता, शिक्षक, व्यापारी गंगा महाकुम्भ में शामिल होकर गंगा को बचाने की मुहिम में योगदान करने आए हैं।''

ज्योतिषाचार्य डॉ. लक्ष्मण दास ने कहा, ''आज दिल्ली में नेशनल गंगा रिवर बेसिन अथॉरिटी की बैठक हो रही है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से हमारी मांग है कि बैठक में ऐसा निर्णय लिया जाए कि गंगा को निर्मल और अविरल बनाया जा सके।''

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गंगा की निर्मलता के लिए वाराणसी बंद