DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीटेक के बाद एमबीए करनी चाहिए

आप छात्र हैं या करियर को लेकर परेशान हैं तो आप फेसबुक पर नई दिशाएं के पेज पर अपने सवाल भेज सकते हैं, हमारे काउंसलर उनका जवाब देंगे। यही नहीं, यदि आप के पास भी किसी के सवाल का जवाब हो तो उसे भी पोस्ट कर सकते हैं। हमारा लिंक है: facebook/naidishayen (hindustan)

फेसबुक पर नई दिशाएं पेज पर बड़ी संख्या में छात्रों, नौकरीपेशा लोगों, यहां तक कि अभिभावकों ने अपने बच्चों की करियर संबंधी समस्याओं को हमारे साथ साझा किया है। सवाल इतने हैं कि सभी का उत्तर देना यहां संभव नहीं है, पर ऐसे अनेक सवाल, जो एक ही दिशा में जाते थे, उनका एक साझा सवाल बना कर यहां समाधान देने की कोशिश की गई है। उम्मीद है ये जवाब करियर की दिशा में बढ़ते छात्रों के लिए एक नई राह बनाएंगे।

कॉमर्स से बारहवीं कर रहा हूं। इसके बाद मैं क्या कर सकता हूं?
रिषभ जैन, हापुड़, फेसबुक

बारहवीं में कॉमर्स से जुड़े विभिन्न विषयों के फंडामेंटल्स को मजबूत करें और इसके बाद बीकॉम (ऑनर्स), सीए, सीएस सरीखे कोर्स के बारे में विचार करें।

बीटेक पूरी कर चुका हूं और 70 प्रतिशत अंक हैं। अब मुझे जॉब के बारे में सोचना चाहिए या एमबीए करनी चाहिए?
अंकुर अग्रवाल, चित्रकूट, फेसबुक

जॉब में कुछ कार्य अनुभव जुटा कर एमबीए के बारे में सोचें तो शायद करियर में बेहतर प्रदर्शन कर सकें।

ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष की छात्र हूं। मेरे पास इंग्लिश, साइकोलॉजी और पॉलिटिकल साइंस विषय हैं। मुझे एमबीए कोर्स के लिए मार्केटिंग या फाइनेंस में से किसे चुनना चाहिए?
आयुषी सिंह, लखनऊ, फेसबुक
सरसरी तौर पर यह कहा जा सकता है कि फाइनेंस की तुलना में मार्केटिंग में आप बेहतर प्रदर्शन कर सकेंगी। इसके पीछे दो कारण दिए जा सकते हैं। पहला, आपके पास फाइनेंस की पृष्ठभूमि का नहीं होना और दूसरा, कंज्यूमर बिहेवियर को समझने के लिए साइकोलॉजी का ज्ञान होना।

साइंस स्ट्रीम से बारहवीं की परीक्षा दी है और अब इंजीनियरिंग एंट्रेंस के एग्जाम दे रहा हूं, लेकिन मेरा मन कुछ और करने का है। कृपया सलाह दें।
अभिषेक यादव, कानपुर, फेसबुक

आप अपने एप्टीटय़ूड और क्षमताओं का ईमानदारी से आकलन करें और फिर अपना कार्यक्षेत्र स्वयं तय करें। हम आपको कुछ विकल्प सोचने के लिए दे देते हैं जैसे मीडिया, विदेशी भाषा, टीचिंग, इकोनॉमिक्स, बैंकिंग, स्पोर्ट्स, मार्केटिंग आदि।

साइकोलॉजी से ग्रेजुएशन करने के बाद फाइन आर्ट्स या डिजाइनिंग में जाने के लिए कौन-सा कोर्स करना चाहिए?
अखिलेश, फेसबुक

साइकोलॉजी का फाइन आर्ट्स या डिजाइनिंग से सीधे कोई करियर कनेक्शन नहीं है। अगर आप ऐसा करते हैं तो यह आपके लिए करियर की बिलकुल नयी दिशा होगी। पोस्ट ग्रेजुएट स्तर के कोर्सेज दोनों ही क्षेत्रों में हैं, जिनमें चयन परीक्षा के आधार पर दाखिले दिए जाते हैं।

दसवीं पास हूं और जल्द नौकरी चाहता हूं? कृपया अच्छी सलाह दें।
गोविन्द मौर्य, फेसबुक
इस स्तर की शैक्षिक योग्यता के आधार पर आपको चतुर्थ श्रेणी के रोजगार से संतुष्ट होना पड़ेगा, इसलिए बेहतर यही होगा कि आप पत्राचार से बारहवीं करते हुए कंप्यूटर संचालन सीखें। इससे आपके लिए बेहतर रोजगार पाना आसान होता चला जाएगा। हां, इसके अलावा आप टेक्निकल ट्रेनिंग जैसे प्लंबिंग, मोटर मैकेनिक, एसी मैकेनिक, मोबाइल रिपेयरिंग जैसे शॉर्ट टर्म कोर्स करके भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

अंडर ग्रेजुएट स्तर पर 45 प्रतिशत अंक थे, लेकिन मास्टर्स डिग्री और एम फिल स्तर पर 51 प्रतिशत अंक रहे। क्या लेक्चररशिप पाने में दिक्कत होगी?
रोहित पांडे, बस्ती, फेसबुक

नेट एग्जाम पास करने के अलावा इंटरव्यू में आपका प्रदर्शन कैसा होगा, लेक्चररशिप का समूचा दारोमदार इस पर ज्यादा होगा। हालांकि प्रत्येक यूनिवर्सिटी प्रत्याशियों के ग्रेजुएशन स्तर की एकेडमिक क्वालिफिकेशन को अलग महत्व देती है।

दसवीं के एग्जाम दिए हैं। डॉक्टर बनना चाहती हूं, लेकिन बायोलॉजी की तरह मैथ्स भी पसंद है। मैं क्या करूं?
अंशिका सिंह, फेसबुक

डॉक्टर बनने का सपना है तो बायोलॉजी पर ही फोकस करें। ग्यारहवीं में मैथ्स को भी साथ में लेने का कोई लाभ नहीं मिलेगा।

दसवीं में हूं और कंप्यूटर में दिलचस्पी है। ग्यारहवीं में कौन-सी स्ट्रीम लेनी चाहिए?
माधवेन्द्र सिंह, फेसबुक
साइंस के साथ कंप्यूटर विषय ले सकते हैं। आगे कंप्यूटर इंजीनियरिंग अथवा आईटी सरीखे क्षेत्र में करियर बना सकते हैं।

बारहवीं बायोलॉजी के साथ की है। आगे डिफेन्स के क्षेत्र में बायोलॉजी के साथ करियर कैसे बना सकती हूं?
कमलेश माखुरी, जोशीमठ, फेसबुक
आपको आर्मी के मेडिकल कोर में बतौर डॉक्टर अथवा नर्सिंग या पैरा मेडिकल स्टाफ के रूप में एंट्री मिल सकती है। अधिक जानकारी के लिए वेबसाइटwww.indianarmy.nic. देख सकती हैं।

क्या दिल्ली यूनिवर्सिटी में इतिहास अथवा राजनीति शास्त्र में ऑनर्स कोर्स करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता है?
दीपक मेहता, दिल्ली, फेसबुक

दिल्ली यूनिवर्सिटी के चुनिन्दा प्रोफेशनल कोर्सेज अथवा चंद नामी कॉलेजों के खास कोर्सेज की सीमित सीटों के लिए एंट्रेंस एग्जाम का प्रावधान है। यह नियम सभी कोर्सेज और कॉलेजों पर लागू नहीं है। अमूमन पॉलिटिकल साइंस और इतिहास के ऑनर्स कोर्स में बारहवीं के अंकों की मेरिट सूची के आधार पर एडमिशन दिए जाते हैं।

बीएससी बीटेक अंतिम वर्ष का छात्र हूं। अब नौकरी पाने के लिए मुझे क्या करना चाहिए?
मयूर सैनी, नजीबाबाद, फेसबुक
आपको किसी नामी कंपनी में इंटर्नशिप करने की कोशिश करनी चाहिए और इस दौरान अपनी काबिलियत और मेहनती होने का पूरा परिचय देना चाहिए। इसके अलावा अपने संस्थान के कैम्पस प्लेसमेंट के जरिये भी रोजगार पाने का प्रयास करना चाहिए। बाद में प्लेसमेंट एजेंसीज का सहारा भी ले सकते हैं।

क्या मैट और सिविल सर्विस एग्जाम की तैयारी साथ-साथ करना संभव है?
आंचल राजन, दिल्ली

जी नहीं, दोनों परीक्षाओं का स्वरूप और तैयारी करने का तरीका बिलकुल अलग है।

आईसीडब्ल्यूए में इंटर होने के साथ बीकॉम भी हूं, लेकिन फ्रेशर हूं। क्या अकाउंट्स में जॉब मिल सकती है?
सूरज जायसवाल, लखनऊ, फेसबुक

अगर आप इसके साथ अकाउंटिंग पर आधारित कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के भी जानकार हैं तो कोई कारण नहीं कि आपको जॉब पाने में मुश्किल हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीटेक के बाद एमबीए करनी चाहिए