DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसका चलेगा बल्ला और कौन फूंकेगा शंख

किसका चलेगा बल्ला और कौन फूंकेगा शंख। नगरपालिका चुनाव में यह देखना दिलचस्प होगा। मजेदार बात तो यह होगी कि कुछ के हाथ चूडिय़ां भी आएंगी और कुछ चम्मच लेकर घूमेंगे। कोई टार्च लेकर क्षेत्र में जाएगा तो कोई चापाकल के नाम पर गुहार लगाएगा।

दरअसल ये नगरपालिका चुनाव के चुनाव चिन्ह हैं, जिनके आधार पर चुनाव होना है। राज्य निर्वाचन आयोग ने नगरनिगम, नगर परिषद और नगर पंचायत के वार्ड सदस्यों के पदों के लिए अलग-अलग चुनाव चिन्हों की सूची जारी की है, जिसे उम्मीदवारों को आवंटित किया जाएगा।

प्रत्याशियों द्वारा नाम वापस लेने की प्रक्रिया के तुरंत बाद नगर निगम, नगर परिषद और नगर पंचायत के प्रत्याशियों की अंतिम सूची देवनागरी लिपि में नाम के पहले अक्षर के वर्णानुक्रम में तैयार की जाएगी। इसके बाद निर्वाची पदाधिकारी चुनाव चिह्नें का क्रमवार आवंटन करेंगे।

नगर निगम, नगर परिषद और नगर पंचायत के वार्ड सदस्य के 27 सौ से अधिक पदों के लिए चुनाव होना है। प्रतीक चिह्नें का आवंटन 2 मई को होगा। इसके बाद प्रत्याशी अपना सिम्बल और किस्मत लेकर चुनाव-ए-जंग में उतरेंगे। चूंकि चुनाव दलीय आधार पर नहीं हो रहा है, लिहाजा किसी राजनीतिक पार्टी का सक्रिय कार्यकर्ता होने के बावजूद प्रत्याशियों को अपने इन्हीं प्रतीक चिन्हों को लेकर वोटरों के बीच घूमना होगा। अब वोटरों को कौन भाएगा आगे प्रत्याशियों की किस्मत।

क्या-क्या होंगे चुनाव चिन्ह
पतंग, वायुयान, ताला और चाबी, प्रेशर कूकर, कैंची, कलम और दवात, कप और प्लेट, छत का पंखा, मेज, कांच का गिलास, नल, कुल्हाड़ी, छाता, बल्ब, चापाकल, कुर्सी, टार्च, चश्मा, तराजू, सीढ़ी, उगता हुआ सूरज, आम, कैरम बोर्ड, दिवाल घड़ी, लट्ट, चिमनी, कोट, मोतियों की माला, चरखा, छड़ी, पुल, बैंगन, केतली, कार, रोड रोलर, जग, अंगूठी, किताब, टोकरी, बल्ला, कांटा, स्टोव, शंख, काठ गाड़ी, स्लेट, टेलीफोन, स्टूल, चारपाई, चम्मच, फ्रॉक और चूड़ियां।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसका चलेगा बल्ला और कौन फूंकेगा शंख