DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रखवाली करने वाले उगाही करते पकड़े गए

 गाजियाबाद। कार्यालय संवाददाता

जिन के कंधों पर रखवाली की जिम्मेदारी थी, वह ही ट्रक चालकों से उगाही करने लगे। परेशान ट्रक चालक ने इसकी सूचना पुलिस को दे दी। इंदिरापुरम पुलिस ने एनएच-24 पर ट्रकों से वसूली करते हुए दो होमगार्ड को रंगेहाथ पकड़ लिया। दोनों को सस्पेंड कर दिया गया। वहीं, ड्रग तस्करी के आरोप में पूर्व होमगार्ड को सिहानी गेट पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह होमगार्ड पहले भी डकैती के मामले में गिरफ्तार हो चुका है। तीनों को जेल भेज दिया गया है। गांधी कॉलोनी मुजफ्फर नगर निवासी ओमप्रकाश वर्मा ड्राइवर है। वह सोमवार दोपहर करीब एक बजे एनएच-24 से होकर दिल्ली की ओर जा रहा था। तभी यूपी गेट पर तैनात दो होमगार्ड मनोज और अर्जुन ने उसे चेकिं ग के नाम पर रोक लिया। गाड़ी और ड्राइविंग लाइसेंस दिखाने के बाद भी दोनों ने उसकी एक न सुनी। आरोप है कि इस दौरान होमगार्डो ने उसे वर्दी का रौब दिखाकर डराया-धमकाया और गाली-गलौच की।

ओमप्रकाश ने मौका मिलते ही सौ नंबर पर कॉल कर इसकी शिकायत कर दी। सूचना के बादएसपी सिटी और इंदिरापुरम पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस टीम ने वसूली कर रहे दोनों आरोपियों को पकड़कर थाने ले आई। पीडिम्त ओमप्रकाश की तहरीर पर इंदिरापुरम पुलिस ने दोनों पर अवैध वसूली, पद के दुरुपयोग और ड्यूटी के दौरान शराब पीने का मामला दर्ज कर जेल भेज दिया है। एएसपी सिटी शिव शंकर यादव का कहना है कि मौके पर दोनों होमगार्ड को वसूली करते पकड़ा गया है। दोनों ने खूब शराब पी रखी थी। दोनों के सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं, मोरटा चौकी के पास से रविवार देर रात पुलिस ने रविंद्र को गिरफ्तार कर लिया। अटौर नंगला निवासी रविंद्र जाट होमगार्ड था। उसके पास से दो किलो डोडा बरामद किया गया है। उसे जेल भेज दिया गया है। पुलिस ने बताया कि रविंद्र होमगार्ड से शातिर बदमाश बन चुका है। वह अब ड्रग सप्लाई करता है।

कभी-कभार वह होमगार्ड की वर्दी पहन कर ट्रकों से वसूली भी करता है। एक जून 2009 को तत्कालीन एएसपी दीपिका गर्ग ने सिहानी गेट इलाके में ट्रक चालकों से अवैध उगाही करते हुए टीएसआई अनुराग त्यागी, कांस्टेबल मान सिंह, होमगार्ड रोहित, अजय कुमार, रविंद्र कुमार जाट व अन्य दो लोगों को गिरफ्तार किया था। इन सबके खिलाफ डकैती की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई थी। रविंद्र जाट को तत्कालीन एसएचओ राजेश द्विवेदी गिरफ्तार कर सरकारी जीप में बैठा कर थाने ले जा रहे थे। उसी दौरान रविंद्र उनके अंगूठे को अपने दांतों से चबा गया और छुड़ा कर फरार हो गया था। उसके ढाई साल बाद रविंद्र जाट को 16 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था। जमानत पर रिहा होने के बाद फिर से उसने उगाही व ड्रग सप्लाई करने लगा।

पूर्व में भी लग चुका है दागजनवरी 2012- वैशाली में घर में घुस कर महिला से कांस्टेबल ने मारपीट की मार्च 2012- ट्रकों से अवैध उगाही करते दो होमगार्ड पकड़े गए। एक को डीएसपी ने मौके से पकड़ा, एक फरार हो गया। दिसंबर 2011- लिंक रोड पुलिस पर मकान कब्जाने का आरोप लगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रखवाली करने वाले उगाही करते पकड़े गए