DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वयं सेवी संगठन ने नौकरानी को आजाद कराया

राजौरी गार्डन में दम्पति द्वारा नौकरानी को बुरी तरह पीटने का मामला सामने आया है। 20 वर्षीय नौकरानी को छुड़ाने वाले स्वयं सेवी संगठन का कहना है कि लंबे समय से लड़की पर आरोपी मालिक और उसकी मां द्वारा अत्याचार किया जा रहा है। बड़ी बहन की शिकायत पर स्वयं सेवी संगठन की मदद से बच्चाी को छुड़वाकर सोमवार को गंभीर हालत में सफदरजंग अस्पताल में भर्ती किया गया।

मामला राजाैरी गार्डन के जी ब्लॉक का है। प्राप्त जानकारी के अनुसार अमित नाम के व्यक्ति के घर में बीते छह महीने से नौकरानी का काम करने वाली 20 वर्षीय दिव्या (बदला नाम) को अमित की मां सरोज खुराना और पत्नी काम धीरे करने के नाम पर दिन रात पीटती थी। बीते शनिवार को अमित की पत्नी ने नाराजगी में दिव्या को जमीन पर धक्का दे दिया, जिसके बाद उसे गर्दन में फ्रैक्चर हो गया।

रविवार सुबह लड़की को स्वयं सेवी संगठन दिल्ली डोमेस्टिक वर्कर फोरम की मदद से मालिक के कब्जे से छुड़वाया गया। स्वयं सेवी संगठन की कार्यकर्ता पुस्तिका ने बताया कि पहले आरोपी मालिक ने लड़की का इलाज नजदीक के क्लीनिक पर कराया, जब हालत नहीं सुधरी तो उसे अस्पताल के पास छोड़कर जीजा को फोन कर शिकायत दी। जीजा प्रेम के अस्पताल पहुंचने के बाद अमित और उसकी मां वहां से चले गए इसके बाद उन्होंने ने बच्चाी की कोई खबर नहीं ली। संगठन ने मामले में हस्तक्षेप कर लड़की को अस्पताल में भर्ती कराने की कार्रवाई शुरू की। स्वयं सेवी संगठन की कार्यकर्ता ने बताया कि पहले ने सुबह सात बजे के बाद देर शाम छह बजे लड़की को तीसरे तल के बेड नंबर 17 में भर्ती किया गया। लड़की के जीजा प्रेम ने बताया कि वह उसे पढ़ाने के लिए छत्तीसगढं से दिल्ली लाएं थे, लेकिन उसने बड़ी दीदी के साथ घरों में काम करने की इच्छा जताई तो वह मान गए। हालांकि दिव्या जीजा के साथ नहीं रहती थी। मामले पर देर शाम राजाैरी गार्डन के आईओ रविन्द्र ने अस्पताल में पहुंच कर बयान दर्ज किए, हालांकि अभी मामले पर एफआईआर दर्ज नहीं की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वयं सेवी संगठन ने नौकरानी को आजाद कराया