DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बरसात के लिए हुडा की तैयारी

हुडा के अंतर्गत आने वाली सड़कों को बरसात में पानी की मार से बचाने के लिए हुडा प्रशासक ने कमर कस ली है। सड़कों पर पानी न जमा हो इसके लिए हुडा की सड़कों का लेवल, ग्रीन बेल्ट के लेवल से ऊपर किया जाएगा, ताकि सड़कों का पानी बहकर सीधे ग्रीन बेल्ट में पहुंचे। इससे ग्रीन बेल्ट में हरियाली की सिंचाई भी हो जाएगी। प्रशासक ने सभी इंजीनियर्स को निर्देश जारी कर दिए हैं, ताकि सेक्टरों में बनी सड़कें समय से पहले खराब न हों।

गौरतलब है कि बारिश के दौरान शहर की सड़कों पर पानी जमा होना आम बात है। स्थिति यह हो जाती है कि सड़कें कई-कई दिनों तक पानी में ही डूबी रहती हैं। इससे जहां लोगों को समस्या का सामना करना पड़ता है वहीं सड़कें समय से पहले ही खराब हो जाती हैं। जिसका परिणाम यह होता है कि सड़कों पर बड़े-बड़े गड्ढे हो जाते हैं। इसलिए हुडा प्रशासक ने निर्णय लिया है कि सड़क के किनारे बने ग्रीन बेल्ट से सड़कों का लेबल ऊंचा रखा जाएगा। जिससे सड़कों पर जमा पानी सीधे ग्रीन बेल्ट में चला जाए।

सड़कों का पानी ग्रीन बेल्ट में पहुंचने पर दो फायदे होंगे। पहला कि सड़कें  खराब नहीं होंगी और दूसरा ग्रीन बेल्ट में लगे पेड़-पौधों की सिंचाई भी इसी पानी से हो सकेगी। सेक्टरों में जिन सड़कों की मरम्मत की जा रही है उनके लेवल को ग्रीन बेल्ट के लेवल से ऊपर किया जाएगा। ताकि पानी खुद ही बहकर सड़क के किनारे बने ग्रीन बेल्ट में पहुंच जाए। बारिश के मौसम से पहले हुडा की ज्यादातर सड़कों का लेवल ऊपर करने का लक्ष्य है। सबसे पहले उन सड़कों का लेवल ऊपर किया जाएगा जहां पर सबसे ज्यादा पानी जमा होता है।

ग्रीन बेल्ट की लेवलिंग की जाएगी :

हुडा प्रशासक डॉ. प्रवीण कुमार ने ग्रीन बेल्ट की सफाई के भी निर्देश दिए हैं। जिसके तहत ग्रीन बेल्ट की सही तरीके से लेवलिंग की जाएगी। ताकि सड़क का पानी ग्रीन बेल्ट में सभी पेड़-पौधों के पास पहुंच सके। इसके अलावा प्रशासक ने सेक्टरवासियों को भी सड़कों पर पानी नहीं बहाने की हिदायत दी गई है। अगर किसी घर से पानी बहकर सड़क पर आता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बरसात के लिए हुडा की तैयारी