DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

20 को तीनों सेना प्रमुखों ने नहीं बुलाया

संसद की रक्षा मामलों की स्थायी समिति ने सेना की तैयारियों के सिलसिले में 20 अप्रैल को तीनों सेना प्रमुखों को उनके समक्ष पेश होने के लिए नहीं बुलाया है। समिति के अध्यक्ष सांसद सतपाल महाराज ने यहां पत्रकारों से बातचीत में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सेना की कमियों पर समिति ने बेहद चिंता जताई है।

 महाराज ने रविवार को अपने निवास पर कहा कि समिति की बैठक में यह बात चल रही थी कि उनके पास प्रोटोकाल के तहत वार रूम व अन्य सुविधाओं की कमी है। ऐसे में तीनों सेना प्रमुख से कैसे बातचीत होगी। लेकिन यह बात पता नहीं मीडिया में कैसे लीक हो गई। जबकि अभी तक यह केवल चर्चा तक ही सीमित था। समिति सेना के उप प्रमुखों को ही बुलाती रही है।

  रक्षा तैयारियों को लेकर समिति अपनी रिपोर्ट संसद में रखेगी। सेना की तैयारियों को लेकर कुछ कमियों जैसे नाइट विजन गोगल, बुलेट जैकेट, बर्फ में चलने के जूते आदि की कमी को इंगित किया गया है। मिग अभी तक चल रहे हैं। तकनीकी के अभाव में पुराने मिग को ही ठीक कर चलाया जा रहा है। इन कमियों लेकर समिति ने रक्षा मंत्रलय की तैयारियों पर बेहद चिंता जताई है। हर मुद्दे पर कमेटी रिपोर्ट देगी। सेना को आधुनिकी बनाने के लिए भी जोर दिया गया है। 


  महाराज ने कहा कि यह पहली बार हुआ है कि सेना ने वर्ष 10-11 में पूरा बजट उपयोग किया है। वर्ष 2011-12 में भी सेना पूरे बजट का उपयोग कर लेगी। शांति के समय पूरा बजट खर्च होना बड़ी बात है।
------------------
12 लाख पूर्व सैनिकों का वेतन बढ़ा


समिति के अध्यक्ष सतपाल महाराज ने कहा कि पूूर्व सैनिकों के वेतन में वृद्धि के फलस्वरूप इस बार सेना के बजट में 2200 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। इसमें 12 लाख से अधिक पूर्व सैनिकों के वेतन में वृिद्ध हुई है। वन रैंक वन पेंशन को लागू करने की भी समिति ने संस्तुति की है। राष्ट्रपति के अभिभाषण में भी इसका जिक्र है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:20 को तीनों सेना प्रमुखों ने नहीं बुलाया