DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेशेवर शिक्षा में दोगुनी हुईं छात्राएं

पेशेवर शिक्षा में लड़कियों ने लड़कों को पीछे छोड़ दिया है। पेशेवर शिक्षा में प्रवेश लेने वाली छात्राओं की संख्या तीन साल में 44 लाख से 83 लाख हो गई। 2007 में उनकी हिस्सेदारी 37 फीसदी थी जो अब करीब 41 फीसदी हो गई। लेकिन मेडिकल और आर्ट्स में लड़कों के बराबर हैं, जबकि विश्वविद्यालयी शिक्षा में साइंस, कॉमर्स में पीछे हैं।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा देश भर में कराए जा रहे उच्च शिक्षा सर्वेक्षण के अंतरिम आंकड़ों के मुताबिक, उच्च शिक्षा में सालाना दो करोड़ छात्र-छात्राएं प्रवेश लेते हैं। इनमें करीब 83 लाख लड़कियां होती हैं। पेशेवर कोर्स में सालाना 2.60 लाख लड़कियां, जबकि करीब 2.58 लाख लड़के दाखिला लेते हैं। वहीं, प्रबंधन, होटल मैनेजमेंट, टूर एंड ट्रेवल्स, इंजीनियरिंग, वकालत, कृषि तकनीक पाठय़क्रमों में लड़कियां काफी पीछे हैं। अलबत्ता मेडिकल डिग्री कोर्स में वे लड़कों के काफी करीब हैं। एमबीबीएस, डिग्री नर्सिग, फार्मेसी आदि में 1.64 लाख लड़कों के मुकाबले 1.54 लड़कियों ने दाखिला लिया। वहीं, आर्ट्स में 34 लाख लड़कों के मुकाबले 29 लाख लड़कियों ने प्रवेश लिया। साइंस व कॉमर्स में छात्रों की संख्या 12-12 लाख रही, जबकि छात्राओं की संख्या आठ-आठ लाख दर्ज की गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पेशेवर शिक्षा में दोगुनी हुईं छात्राएं