DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो दिन बाद जिंदा मिला दफन बच्चा

आदर्श नगर में तांत्रिक के कहने पर एक पिता ने साथियों के साथ मिलकर दो दिन पूर्व नवजात को घड़े में बंद कर जिंदा दफना दिया। रेलवे लाइन के पास शनिवार सुबह खेल रहे बच्चों ने नवजात के रोने की आवाज सुनी। बाद में मुहल्ले वालों ने नवजात को निकाला और नाजुक हालत में अस्पताल में भर्ती कराया, जहां वह खतरे से बाहर है।

मुहल्ले वालों ने खोजबीन की तो पता चला कि 6 अप्रैल को एक घर में बच्चे का जन्म हुआ था। लोग वहां पहुंचते इससे पहले ही नवजात का पिता किरनपाल और अन्य भाग निकले, जबकि मां ने उसे पहचानने से इनकार कर दिया। फिर कहा कि मृत बच्चा जन्म दिया, लेकिन सख्ती बरतने पर माना कि बच्चा उसी का है।

पुलिस के मुताबिक किरनपाल, उसके दो साथी और तांत्रिक ने नवजात को दफनाया था। जन्म के दस दिन के भीतर ही दो बेटों की मौत के बाद तांत्रिक की सलाह पर उन्होंने ऐसा किया ताकि भविष्य में होने वाले बच्चे सुरक्षित रहें। पुलिस ने तांत्रिक और नवजात के माता-पिता के खिलाफ नर बलि देने के प्रयास में मामला दर्ज किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो दिन बाद जिंदा मिला दफन बच्चा