DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली की सड़कों पर खासतौर से कार चालक, सीट बेल्ट लगाने के नियम को कोई तव्वजों नहीं दे रहे हैं। सौ रुपये का चालान भरने को तैयार हैं, मगर सीट बेल्ट नहीं लगाना चाहते। तीन माह का चालान रिकार्ड देखें तो उसमें सीट बेल्ट न लगाना, एकमात्र ऐसा ट्रैफिक नियम है जिसके टूटने का ग्राफ दोगुना हो गया है। कुल चालान संख्या का यह 12 फीसदी है।


बता दें कि 20 फरवरी को हुआ लेम्बोरगिनी कार हादसा और शुक्रवार सुबह हौजखास इलाके में डिवाइडर से जो कार टकराई थी, दोनों में से किसी भी चालक ने सीट बेल्ट नहीं लगा रखी थी। नतीजा, दो युवाओं की मौके पर ही मौत। खास बात यह रही कि हौजखास वाले हादसे में चालक रमनीत सिंह के साथ वाली सीट पर बैठी एक युवती, जिसने सीट बेल्ट लगा रखी थी, उस भयावह हादसे में बच गई। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, चार-पांच माह के दौरान एक दजर्न से ज्यादा ऐसे हादसे हुए हैं, जिनमें सीट बेल्ट नहीं लगी होने के कारण चालक या साथ वाली सीट पर बैठे व्यक्ति की जान गई है।
सीट बेल्ट लगाने के नियम की अवहेलना
वर्ष 2011 में जनवरी से मार्च तक सीट बेल्ट उल्लंघन के 30625 चालान हुए थे, जबकि इस साल यह संख्या 85 हजार का आंकड़ा पार कर गई है। 31 मार्च 2012 तक सभी तरह के ट्रैफिक नियमों को मिलाकर कुल 750641 चालान हुए हैं।
सीट बेल्ट से बढ़ जाती है बचने की संभावना
नेशनल हाइवे ट्रैफिक सेफ्टी एडमिनिस्ट्रेशन (एनएचटीएसए) के मुताबिक, स्पीड सामान्य है और सीट बेल्ट लगी है तो जान बचने की संभावना 45 से 60 फीसदी बढ़ जाती है। इसके अलावा गंभीर चोट का असर 50 प्रतिशत कम होता है।
रात के समय घट जाती है सीट बेल्ट लगाने वालों की संख्या
जर्नल ऑफ ईस्टर्न एशिया सोसायटी फॉर ट्रांसपोर्टेशन स्टडीज की रिपोर्ट बताती है कि दिल्ली में 3-4 फीसदी कार हादसे होते हैं। लगभग 70 से 80 प्रतिशत कार चालक सीट बेल्ट का  इस्तेमाल करते हैं। फ्रंट सीट पर बैठे व्यक्ति की बात करें तो यह प्रतिशत 60 तक पहुंच जाता है।
सीट बेल्ट: इस तरह करती है बचाव
नेशनल इंस्टीटय़ूट ऑफ मैंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंसेज के अनुसार,
कार हादसे में मौत का कारण, सिर पर चोट (72 प्रतिशत), छाती (44 फीसदी) और पेट (12 प्रतिशत)
-गंभीर चोट है तो यह प्रतिशत क्रमश: 39, 11 और 5 रहता है। सीट बेल्ट लगी है तो जान बचने की संभावना बनी रहती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली में ट्रैफिक नियमों की उड़ती हैं धज्जियां