DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ककोलत का पारम्परिक विसुआ मेला शुरू

बिहार के नवादा जिले के ककोलत जलप्रपात के समीप शनिवार से परम्परागत विसुआ मेला शुरू हो गया है। मेले के पहले दिन जिले के अलावा आस पास के क्षेत्रों से बड़ी संख्या में लोगों ने ककोलत के शीतल जल प्रपात में स्नान किया और सत्तू खाया।

मान्यता है कि विसुआ के अवसर पर सत्तू खाने से प्राणियों को सर्पयोनी से मुक्ति मिलती है। हालांकि पर्यटन विभाग की ओर से ककोलत के समीप पांच दिवसीय मेला आयोजित करने का निर्णय लिया गया था लेकिन अभी इसकी तिथि निर्धारित नहीं की गई है।

गौरतलब है कि गोविन्दपुर पहाड़ी श्रृंखलाओं में स्थित ककोलत जलप्रपात अपनी शीतलता के कारण बिहार का कश्मीर के रूप में सुविख्यात है। गर्मी के दिनों में भी जलप्रपात के समीप पहुंचने के पहले से शीतलता की अनुभूति होने लगती है।

करीब 150 फीट की ऊचाई से गिरते जल में स्नान करने से लोग रोमांचित हो जाते है। नैसर्गिक सौन्दर्य के बीच अवस्थित ककोलत जलप्रपात ऐतिहासिक, पुरातात्विक और धार्मिक दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ककोलत का पारम्परिक विसुआ मेला शुरू