DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राखी के नाम एक करोड़ का ठुमका

अब राखी सावंत संगीतकार सतीश-अजय के आइटम नंबर पर अपने हुस्न का तड़का लगाती नजर जाएंगी। जी हां, आइटम नंबर से ही बॉलीवुड में जोरदार एंट्री मारने वाली राखी अब ‘लट्टू गर्ल’ के रूप में सतीश-अजय की धुन पर थिरक रही हैं। इस गीत के फिल्मांकन और सेट पर एक करोड़ रुपये का खर्च आया है।

‘शीला की जवानी’, ‘छम्मक छल्लो’और ‘अनारकली डिस्को चली’ जैसे आइटम नंबर में करीना, कैटरीना और मलाइका सरीखी अभिनेत्रियों द्वारा लटके-झटके दिखाने के बाद अब राखी सावंत संगीतकार सतीश-अजय के आइटम नंबर पर अपने हुस्न का तड़का लगाती नजर जाएंगी। जी हां, आइटम नंबर से ही बॉलीवुड में जोरदार एंट्री मारने वाली राखी अब ‘लट्टू गर्ल’ के रूप में सतीश-अजय की धुन पर थिरक रही हैं। इस गीत के फिल्मांकन और सेट पर एक करोड़ रुपये का खर्च आया है।

इस गाने में यूपी के फोक शब्दों का बखूबी इस्तेमाल किया गया है। संगीत कुछ इस अंदाज में तैयार किया गया है, जिसमें देसी वाद्य यंत्रों पर वेस्टर्न बीट्स का उम्दा फ्यूजन देखने को मिलेगा। बॉलीवुड की कई फिल्मों में अपने संगीत का जलवा बिखेर चुके सतीश-अजय ने पिछले साल ही हॉलीवुड की फिल्म रॉक इन मीरा में संगीत देकर बेशुमार शोहरत हासिल की थी। अब बॉलीवुड में लट्टू सॉन्ग के जरिए वे धमाकेदार एंट्री मार रहे हैं।
मूलत: यूपी के रहने वाले सतीश-अजय की जोड़ी ने अब तक करीब दजर्न भर बॉलीवुड फिल्मों के अलावा देश की नामी-गिरामी म्यूजिक कंपनियों के लिए करीब ढाई दजर्न एलबम व भोजीवुड इंडस्ट्री यानी भोजपुरिया समाज के लिए भी दजर्न भर फिल्मों में अपने संगीत का जादू बिखेरा है। फिलहाल एक चैनल पर चल रहे म्यूजिकल शो ‘सूरों का महासंग्राम’ में बतौर जज व मेंटर की भूमिका निभा रही है यह जोड़ी।

एक कार्यक्रम के सिलसिले में राजधानी पहुंचे सतीश-अजय ने बताया कि इस आइटम नंबर के अलावा उन्होंने दो अन्य आइटम सॉन्ग भी कम्पोज किए हैं। इसी साल उनके इन दोनों आइटम नंबर को भी श्रोता सुन सकेंगे, लेकिन अगले महीने रिलीज होने वाली फिल्म ‘रक्तबीज’ में फिलहाल यह जोड़ी अपने संगीत का डंका बजाने जा रही है। इस फिल्म में आइटम नंबर के अलावा दो मेलोडियस गाने हैं, जबकि एक गीत सूफी अंदाज का गीत है और एक गीत आज की युवा पीढ़ी के मिजाज का रॉक स्टाइल में बनाया गया है। इस गाने में गिटार व पश्चिमी वाद्य यंत्रों का इस्तेमाल किया गया है। इसमें इंडियन मेलोडी के बेस पर वेस्टर्न बीट्स के फ्जयून का एक जबरदस्त काम देखने को मिलेगा। गाने की कम्पोजीशन लीक से बिल्कुल हटकर है। इस संगीतकार जोड़ी का कहना है कि इस फिल्म में उन्होंने हर वर्ग के श्रोताओं को ध्यान में रखने हुए गाने कम्पोज किए हैं।
यह पूछे जाने पर कि रक्तबीज के अलावा भविष्य में आपकी और कौन-कौन सी फिल्में रिलीज होने वाली हैं, तो जवाब में सतीश-अजय ने कहा कि अगले एक साल तक तो आप लाइन से मेरी ही फिल्मों के गीत सुनेंगे।
हमारी चार फिल्में हर कुछ
महीनों के अंतराल पर रिलीज होने वाली हैं। खास बात यह है कि सभी फिल्मों में हमने एक-एक आइटम नंबर के अलावा इंडियन मेलोडी और देशी संगीत के साथ पश्चिमी वाद्य यंत्रों का फ्यूजन करने की कोशिश की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राखी के नाम एक करोड़ का ठुमका