DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

द्वारिकेश, जेके और सेमीखेड़ा शुगर मिलें बंद

ओसवाल शुगर मिल के बाद द्वारिकेश, जेके और सहकारी शुगर मिल सेमीखेड़ा में शनिवार की सुबह से पेराई बंद हो गई है। जिले में एकमात्र केसर शुगर मिल में गन्ना खरीद की जा रही है। खेतों में गन्ना खड़ा होने के बाद भी मिलें बंद होने से किसानों में काफी गुस्सा है।

जिले की पांच शुगर मिलों में से ओसवाल, द्वारिकेश, जेके और सहकारी शुगर मिल सेमीखेड़ा में पेराई बंद हो गई है। द्वारिकेश (फरीदपुर)ने 81.58 लाख क्विंटल गन्ना खरीदकर 7.17 लाख क्विंटल, जेके (मीरगंज) ने 62.47 लाख क्विंटल गन्ना खरीदकर 5.56 लाख क्विंटल और सेमीखेड़ा शुगर मिल ने 33.72 लाख क्विंटल गन्ना खरीदकर 2.64 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया है, जो पेराई सत्र 2010-11 से काफी अधिक है।

किसानों का चारों बंद होने वाली शुगर मिलों पर करोड़ों रुपए बकाया है। सबसे अधिक 58.91 करोड़, द्वारिकेश, 38.96 करोड़ जेके और सेमीखेड़ा शुगर मिल पर 34.54 करोड़ रुपए बकाया हैं। उधर, फरीदपुर के गन्ना किसान राम प्रसाद यादव एवं भोजीपुरा के हारुन खां ने बताया कि हजारों क्विंटल गन्ना खेतों में खड़ा है। फिर भी शुगर मिलों को बंद कर दिया गया है। इससे बड़ा नुकसान होगा। किसानों ने भुगतान न मिलने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

जिला गन्ना अधिकारी आरपी यादव ने बताया कि जिले की ओसवाल, जेके, द्वारिकेश और सेमीखेड़ा में पेराई बंद हो गई है। जिले में सबसे अधिक गन्ना खरीदने वाली केसर शुगर मिल में अभी पेराई चालू है। उन्होंने बताया कि गन्ना किसानों का लगभग सभी गन्ना मिलें खरीद चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:द्वारिकेश, जेके और सेमीखेड़ा शुगर मिलें बंद