DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जांच अधिकारी अब जाएंगे मौके पर

श्रीनगर के पास अलकनंदा नदी पर 17 करोड़ की लागत से बन रहे पुल के क्षतिग्रस्त होने की जांच के लिए प्रमुख सचिव एस राजू एक-दो दिन में मौका मुआयना करेंगे। अब तक इस मामले में प्रारंभिक कार्रवाई में लोक निर्माण विभाग के एक अधिशासी अभियंता दीपक गुप्ता पर ही निलंबन की गाज गिरी। पुलिस रिपोर्ट के मामले में भी अब कार्रवाई आगे नहीं बढ़ सकी है।

इस पर अब तक 14 करोड़ खर्च हो चुके हैं। इस पर 80 फीसदी कार्य पूरा हो गया था। पुल का डिजाइन रुड़की के इंजीनियरों ने किया था। इस कारण से उच्च स्तर पर डिजाइन में किसी तरह की खामी की संभावना कम ही दिख रही है। सूत्रों ने बताया कि लोक निर्माण विभाग के स्तर पर घटिया सामग्री के इस्तेमाल ही इस पुल के टूटने की प्रमुख वजह मानी जा रही है। सूत्रों ने कहा कि यदि गहराई से जांच की जाए तो पुल पर लगाई गई घटिया सामग्री का मामला सामने आ सकता है।

सवाल यह है कि करीब तीन सप्ताह बीतने पर भी इतने बड़े हादसे मामले में क्या कोई जिम्मेदार नहीं है। किस स्तर पर यह लापरवाही हुई। जिससे करोड़ों रुपए खर्च होने के बाद भी पुल को मजबूती नहीं मिल पाई। शासन ने इस मामले की जांच जांच प्रमुख सचिव एस राजू को दी थी। राजू का कहना है कि अब वह मौके पर जाकर देखेंगे कि किस वजह से पुल टूटा। उसके बाद ही वे इस मामले में कुछ कह सकेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जांच अधिकारी अब जाएंगे मौके पर