DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डाकघर में पिन कोड पूछने पर कोर्ट की फटकार

डाकघर में स्पीड पोस्ट के काउंटर कम होने और उपभोक्ता से पिन कोड पूछे जाने की शिकायत को कोर्ट ने गंभीरता से लेते हुए पोस्ट मास्टर जनरल को नोटिस जारी कर दी है। कोर्ट ने पोस्ट मास्टर जनरल को कड़े निर्देश दिए है कि वह डाकघर में समुचित काउंटरों की व्यवस्था कर 30 मई तक कोर्ट को अवगत कराएं। इसके अलावा सुनिश्चित करें कि पिन कोड के नाम पर डाक वापस नहीं की जाएंगी।

अधिवक्ताओं के प्रतिनिधि मण्डल ने शुक्रवार को स्पेशल महानगर मजिस्ट्रेट जेपी अग्रवाल से डाकघर के अधिकारियों और कर्मचारियों की शिकायत की। अधिवक्ताओं ने अग्रवाल को बताया कि एनआई एक्ट के तहत चलने वाले मुकदमों के सम्मन स्पीड पोस्ट के जरिए भेजे जाते हैं। डाकघर में स्पीड पोस्ट के काउंटर कम होने से अधिवक्ताओं समेत अन्य उपभोक्ताओं को दिक्कत का सामना करना पड़ता है। डाक बुक करने से पहले उपभोक्ता से पिन कोड पूछा जाता है।

अगर उपभोक्ता को पिन कोड नहीं मालूम है, तो कर्मचारी डाक वापस कर देते हैं। मजबूरी में लोगों को प्राइवेट कूरियर का सहारा लेना पड़ता है। इससे डाकघर की आय में गिरावट आती है। इसे  अग्रवाल ने गंभीरता से लेते हुए पोस्ट मास्टर जनरल रामभरोसा को नोटिस जारी कर निर्देश दिया है कि स्पीट पोस्ट के काउंटर बढ़ाए जाएं, ताकि कोर्ट के वारण्ट और सम्मन को भेजा जा सके।

कोर्ट ने माना कि उपभोक्ताओं को उचित सुविधा न देने से डाकघर की आय में गिरावट हुई है। डाकघरों की कार्यशैली त्रुटिपूर्ण है। अधिकारी और कर्मचारी उपभोक्ताओं का काम समय पर नहीं करते। कोर्ट ने 30 मई तक व्यवस्था ठीक न होने पर पोस्टमास्टर जनरल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डाकघर में पिन कोड पूछने पर कोर्ट की फटकार