DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोमबत्ती की रोशनी और मेरी तमन्ना

मैं तब लाहौर कॉलेज में था। मियां सर फजल हुसैन सूबे के काबीना मंत्री थे। उनके बड़े बेटे केंब्रिज यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे थे। एक शाम को वहां बिजली चली गई। उन्होंने अपने पिता को लिखा। मैं मोमबत्ती की रोशनी में पढ़ाई कर रहा हूं। वह थरथराती है और बुझ जाती है। यह एक किस्म की भविष्यवाणी थी। वह कुछ दिन बाद चल बसे।

वह चिट्ठी दो अंग्रेजी अखबारों में छपी थी। लाहौर से निकलने वाले ‘द ट्रिब्यून’ और ‘द सिविल ऐंड मिलिटरी गजट’ में। न जाने क्यों, उस लिखे को मैं भूल नहीं पाता हूं। मैं असगरी कादिर को उसकी याद दिलाता रहता हूं। वह उनकी छोटी बहन हैं। वह और उनके शौहर मंजूर हमारे परिवार के नजदीक रहे हैं।

मैं शायद ठीक-ठीक कारण नहीं जानता, लेकिन मोमबत्ती का असर मुझ पर चढ़कर बोलता है। सुबह बहुत जल्द उठ जाता हूं। उस वक्त अंधेरा होता है। मैं अपने बेडरूम में मोमबत्ती जलाता हूं। लाइट का इस्तेमाल तभी करता हूं, जब सुबह के अखबार आ जाते हैं। 

शाम को अपने मिलने वालों के आने से पहले मैं तीन मोमबत्ती जलाकर रखता हूं। अब जब भी कोई खूबसूरत महिला मेहमान आती है, तभी मैं लाइट जलाता हूं। ताकि मैं उसका चेहरा ठीक से देख पाऊं। जब बेगम दिलशाद शेख आती हैं, तो मुझे लाइट जलानी ही पड़ती है। वह अपनी सर्दियां दिल्ली में ही बिताती हैं। और वह भी मेरे पड़ोस में। उनको देखकर मुझे कुछ लाइनें याद आती हैं-
यही है मेरी तमन्ना, यही है मेरी आरजू/ तू सामने बैठा करे और मैं तुझे देखा करूं।

कुल मिलाकर मैं अपने पढ़ने वालों को यह सलाह देना चाहता हूं कि मोमबत्ती का इस्तेमाल करें। लाइट खासी चकाचौंध पैदा करती है। मोमबत्ती मन और आत्मा को सुकून देती है और हमारी पुरानी यादों को ताजा कर जाती है।

ब्लू फिल्म
कर्नाटक विधानसभा में ब्लू फिल्म देखने पर हंगामा बरपा है। मुझे तो यह हंगामा फालतू लगता है। आखिर ब्लू फिल्म देखना कोई पाप तो है नहीं। जर्मनी के कई फाइव स्टार होटलों में ये फिल्में बेडरूम में दिखाई जाती हैं। हवाई में तो करीब आधा दर्जन सिनेमा हॉल यही सब दिखाते हैं।

एक बार हम हवाई में थे। लेखकों का एक जमावड़ा था। मेरे साथ आरके नारायण भी थे। वह तो संत किस्म के आदमी थे। शाकाहारी थे और दही से काम चला रहे थे। मेरे किस्म के आदमी का साथ निभाने के लिए लायक ही नहीं थे वह। मैंने पीछा छुड़ाने को यों ही कह दिया कि मैं ब्लू फिल्म देखने जा रहा हूं। मुझे लगा कि यह सुनकर वह भाग जाएंगे। लेकिन वह तो मेरे साथ चल दिए। हमने फिल्म देखी, लेकिन एक घंटे में ही बोर हो गए। आज तक मैं यह नहीं समझ पाया हूं कि सेक्सी फिल्मों को ब्लू फिल्म क्यों कहा जाता है? मेरा कोई पाठक इस पर रोशनी डालेगा?
(ये लेखक के अपने विचार हैं) 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोमबत्ती की रोशनी और मेरी तमन्ना