DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रक्षेपण असफल, पर अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघनः यूएस

अमेरिका ने उत्तर कोरिया पर आरोप लगाया है कि उसने लंबी दूरी का रॉकेट प्रक्षेपित करके अपने इस उकसाने वाले कृत्य से अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन किया है।

अमेरिका ने दावा किया है उत्तर कोरिया का रॉकेट प्रक्षेपण पूरी तरह से असफल प्रयास था। रॉकेट प्रक्षेपण से पहले जी आठ देशों ने उत्तर कोरिया से कहा था कि वह यह प्रक्षेपण नहीं करे। 

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जे कार्नी ने कहा, उत्तर कोरिया के मिसाइल प्रक्षेपण के असफल प्रयास के बावजूद उसके इस भड़काउ कृत्य से क्षेत्रीय सुरक्षा सुरक्षा को खतरा उत्पन्न हुआ है तथा इससे अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन हुआ है। उसने ऐसा करके हाल में की गई अपनी ही प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन किया है।

उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के आक्रामक व्यवहार के मद्देनजर उसके इस कार्य से आश्चर्य नहीं हुआ है, लेकिन उसकी ओर से कोई भी मिसाइल गतिविधि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए चिंता का विषय है। उत्तर कोरिया के भड़काउ कदमों को लेकर अमेरिका सतर्क है तथा वह क्षेत्र में अपने सहयोगियों की सुरक्षा को पूरी तरह से प्रतिबद्ध है।

कार्नी ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा इस बात को लेकर स्पष्ट थे कि वह उत्तर कोरिया के साथ रचनात्मक संवाद को सहमत हैं। हालांकि ओबामा ने इस बात पर भी जोर दिया था कि उत्तर कोरिया को अपनी स्वयं की प्रतिबद्धताओं और अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का पालन करते हुए अपने पड़ोसियों से शांतिपूर्वक रहना चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया ऐसे भड़काउ कृत्यों से स्वयं को और अलग-थलग करने के साथ ही अपना धन हथियारों और दिखावों पर खर्च कर रहा है जबकि उत्तर कोरिया के लोग भूखों मर रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के लंबे समय से मिसाइल विकास और परमाणु हथियार हासिल करने के प्रयासों से उसे सुरक्षा हासिल नहीं हुई है और ऐसा भविष्य में भी होने वाला नहीं है। उत्तर कोरिया अंतरराष्ट्रीय कानून और प्रतिबद्धताओं का पालन करके तथा अपने नागरिकों का पेट भरके, उनके बच्चों को शिक्षित करके और पड़ोसियों का विश्वास जीतकर ही अपनी शक्ति प्रदर्शित कर सकता है।

उत्तर कोरिया के मिसाइल प्रक्षेपण की निगरानी कर रहे अमेरिकी रक्षा अधिकारियों ने कहा कि यह प्रक्षेपण पूरी तरह से असफल था। अमेरिकी प्रणालियों ने न्यूयॉर्क समयानुसार शाम छह बजकर 39 मिनट पर प्रक्षेपित उत्तर कोरियाई ताइपो डांग दो मिसाइल का पता लगाने के साथ उस पर लगातार नजर रखी।

पेंटागन ने एक बयान में कहा कि प्रारंभिक संकेत यह हैं कि मिसाइल का पहला चरण दक्षिण कोरिया के सोल से 165 किलोमीटर पश्चिम समुद्र में गिरा। आकलन है कि अन्य चरण भी असफल रहे और उसका कोई भी मलबा जमीन पर नहीं गिरा। प्रक्षेपण के बाद किसी भी समय मिसाइल या उसका मलबा खतरा नहीं रहा।

अमेरिकी सीनेट के विदेश संबंध समिति के अध्यक्ष एवं सीनेटर जॉन कैरी ने कहा यह एक अंतरराष्ट्रीय तमाशा था जिसने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्तावों, हाल में हुए द्विपक्षीय सहमतियों का उल्लंघन करने के साथ ही क्षेत्रीय स्थायित्व के लिए खतरा उत्पन्न किया। यह इस बात का संदेश है कि उत्तर कोरिया अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ अपने संबंध में परिवर्तन करना चाहता है।

हाउस आर्म्ड सर्विसेस कमेटी के अध्यक्ष हावर्ड पी बक मैककियोन ने उत्तर कोरिया की ओर से यह प्रक्षेपण करके संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों और अमेरिका के साथ हुए समझौते का उल्लंघन किये जाने की निंदा की।

इससे पहले दिन में जी़ आठ देशों के विदेश मंत्रियों ने व्यापक मुद्दों पर उत्तर कोरिया के व्यवहार पर फिर से चिंता जतायी और मिसाइल प्रक्षेपण की उसकी योजना को लेकर खेद जताते हुए उससे ऐसा नहीं करने की अपील की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रक्षेपण असफल, पर अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघनः यूएस