DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

100 नंबर मिलाने पर दिल्ली पुलिस का नंबर मिलने की

हिंडन। वरिष्ठ संवाददाता। बार्डर के इलाकों से 100 नंबर मिलाने पर दिल्ली पुलिस को फोन लगने की समस्या का फौरी तौर पर पुलिस ने समाधान कर दिया है। पुलिस ने कंट्रोल रूम के नंबर सावर्जनिक किए हैं। टीएचए के लोगों की सुविधा के लिए पुलिस ने यह कदम उठाया है। एसपी सिटी ने कहा कि लोग अपने मोबाइल फोन में कंट्रोल रूम का नंबर सेव करें और किसी भी घटना की जानकारी होने पर पुलिस को तुरंत इत्तला दें।

कंट्रोल रूम में शिकायत सुनने के लिए पुलिस कर्मियों की बाकायदा ड्यूटी लगाई जाएगी। दिल्ली बार्डर से जुड़े तमाम क्षेत्रों के लोगों की यह आम शिकायत थी कि घटना की जानकारी देने के लिए जब 100 नंबर डायल किया जाता है तो वह दिल्ली पुलिस को लगता है। इसके बाद दिल्ली पुलिस गाजियाबाद पुलिस को सूचना देती है।

तक जाकर गाजियाबाद पुलिस हरकत में आती है और कार्रवाई शुरू करती है। इस सारी कवायद में काफी समय जाया हो जाता है, जिसका फायदा अपराधी उठाते हैं। एसपी सिटी शिवशंकर यादव ने गुरुवार को इस समस्या का फौरी तौर पर हल निकालते हुए पुलिस कंट्रोल रूम के नंबर सार्वजनिक किए।

क्या हैं नंबर 0120-27640100120-27640200120-27640550120-27640650120-2764070ऑटो के पीछे लिखवाए जाएंगे नंबरचूंकि आटो के पीछे विजबिलिटी अधिक होती है। लोगों की नजर अधिक पड़ती हैं, इसलिए ऑटो के पीछे नंबर लिखवाए जाएंगे। उन ऑटो पर खासकर नंबर लिखवाए जाएंगे जो बार्डर से चलते हैं।

इसके अलावा ऑटो में बैठाकर लूटपाट की घटनाओं को को ध्यान में रखते हुए अंदर भी नंबर खिलवाए जाएंगे। यात्राी तुरंत पुलिस को फोन कर सकें। शिकायत सुनने के लिए लगेगी ड्यूटी पुलिस कंट्रोल रूम में शिकायत सुनने के लिए ड्यूटी लगाई जाएगी।

ड्यूटी में तैनात सिपाही आने वाली प्रत्येक कॉल का ब्योरा रखेगा। घटना की सूचना किसे दी गई, मौके पर कौन जा गया, क्या कार्रवाई हुई। यह सब भी दर्ज करना पड़ेगा। 100 नंबर के लिए भी कवायदबार्डर के तमाम क्षेत्रों से भी 100 नंबर गाजियाबाद का ही मिले।

इसके लिए कवायद चल रही है। उन्होंने कहा कि मोबाइल कंपनी के साथ जल्द ही एक मीटिंग रखी जाएगी। जिसमें इस समस्या का समाधान निकाला जाएगा। बार्डर पर रहने वालों की संख्या 2 लाख के करीब बार्डर के इलाकों से 100 नंबर दिल्ली पुलिस को मिलने की समस्या का समाधान तुरंत नहीं कराया जा सकता है इसलिए फिलहाल पुलिस कंट्रोल रूम के नंबर सार्वजनिक किए जा रहे हैं।

लोग अपराध की जानकारी होने पर तुंरत फोन करें। लोगों के सहयोग के बगैर क्राइम पर लगाम लगाना मुश्किल है। मेरी कोशिश होगी कि गाजियाबाद सीमा में घुसते ही 100 नंबर गाजियाबाद पुलिस का ही मिले। शिवशंकर यादव, एसपी सिटी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:100 नंबर मिलाने पर दिल्ली पुलिस का नंबर मिलने की