DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉलेज परिसर में 37 कंकाल अभी भी पहेली

ऑक्सफोर्ड कॉलेज परिसर में मिले 37 कंकाल अभी भी एक पहेली बने हुए हैं। अध्यनकर्ताओं के एक दल ने इन कंकालों को पेशेवर योद्धाओं का माना है, जबकि दूसरा दल कुछ और मान रहा है।

पहले दल के अनुसार ये कंकाल उन योद्धाओं के हैं जिनके बारे में आशंका है कि उन्हें पकड़कर मृत्युदंड दिया गया होगा। वहीं दूसरा दल यह मान रहा है कि ये कंकाल सेंट ब्राइस डे नरसंहार में मारे गए लोगों के हो सकते हैं।

वर्ष 2008 में थेम्स वेल्ली ऑर्कियोलोजिकल सर्विसेस को जब कॉलेज परिसर में कंकालों का पता चला तो अनुमान लगाया गया था कि यह ऑक्सफोर्ड में सेंट ब्राइस डे नरसंहार से जुड़ी हुयी घटना से संबंधित हो सकते हैं। इस घटना के तहत वर्ष 1002 में राजा एथेलार्ड ने इंग्लैंड में रह रहे सभी डेनिश लोगों को मौत के घाट उतार देने का आदेश दिया था।

बहरहाल, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के शिक्षाविदों की अगुवाई में एक नए अध्ययन से एक नया नवीन सामने आया है। उनका कहना है कि यह कंकाल पेशेवर योद्धाओं या विकिंग राइडर्स के हो सकते हैं जिन्हें पकड़ कर मौत की सजा दी गयी थी।

खुदाई में गड्ढे से मानव कंकाल का पता चला था। अधिकतर लोगों की उम्र 16 से 25 वर्ष के भीतर थी और वो सामान्य आदमी की तुलना में तगड़े और लंबे थे। कुछ के चेहरे पर पुराने घाव के निशान भी जिससे ऐसा लगता था कि वो पेशेवर योद्धा थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कॉलेज परिसर में 37 कंकाल अभी भी पहेली