DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सशस्त्र बलों के साथ कोई मतभेद नहीं: रक्षा मंत्रालय

रक्षा मंत्रालय ने सशस्त्र बलों के साथ मतभेद होने संबंधी खबरों को गुरुवार को खारिज कर दिया और कहा कि सरकार तीनों सेनाओं के साथ अच्छे तालमेल से कार्य कर रही है।
    
रक्षा राज्य मंत्री एम एम पल्लम राजू ने कहा कि सरकार और सशस्त्र बलों के बीच कोई मतभेद नहीं है और हम सद्भाव के साथ काम कर रहे हैं।
    
उनसे यह पूछा गया था कि सेनाध्यक्ष वी के सिंह के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लिखे गए पत्र के लीक होने के पीछे क्या किसी भीतर के ही व्यक्ति का हाथ है।

सेना की तैयारियों की स्थिति को लेकर जनरल सिंह की ओर से प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र को कुछ समय पहले मीडिया को लीक कर दिया गया था।
    
राजू ने एनसीसी की एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि मैं काल्पनिक खबरों पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता।
   
भारत से लगती सीमा पर चीन सेना की ओर से अपने आधारभूत ढांचे के तेज आधुनिकीकरण संबंधी एक प्रश्न के जबाव में उन्होंने कहा कि वहां भारतीय ढांचे को उन्नत बनाने के प्रयास किये जा रहे हैं।
     
राजू ने कहा कि चीन का बजट भारत से चार गुना अधिक है इसलिए वे निश्चित रूप से उसके लिए अधिक संसाधन जारी करेंगे। लेकिन इसका यह कतई मतलब नहीं कि हम किसी भी मायने में कम तैयार हैं। हम जिस तरह से अपनी क्षमताएं बढ़ा रहे हैं और जिस तरह से अपना आधारभूत ढांचा बना रहे हैं उसी तरह से हम तेजी भी हासिल कर रहे हैं।
     
उन्होंने वायुसेना के लिए बेसिक ट्रेनर विमान (बीटीए) पिलेटस की खरीद के बारे में कहा कि किसी भी चीज की खरीद के लिए एक प्रक्रिया होती है तथा प्रशिक्षक विमान की कमी के चलते एवं प्रशिक्षक विमान की जरुरत के चलते पिलेटस के बारे में प्रक्रिया जल्द से जल्द पूरी की जाएगी।
     
उन्होंने आशा जताई कि सुरक्षा पर कैबिनेट समिति इस मुद्दे पर जल्द विचार करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सशस्त्र बलों के साथ कोई मतभेद नहीं: रक्षा मंत्रालय