DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अरब लीग का बगदाद सम्मेलन

बगदाद में अरब लीग के सम्मेलन के औपचारिक उद्घाटन के साथ ही दशकों के अलगाव के बाद इराक की क्षेत्रीय नेता के तौर पर वापसी हुई है। इराक इस सम्मेलन का आयोजन 22 साल बाद कर रहा है। पिछली बार 1990 में यहां यह सम्मेलन हुआ था। इराकी प्रधानमंत्री नौरी अल मल्की के लिए यह एक मौका है, जब वह अपने मुल्क की अरब पहचान को पुख्ता कर सकते हैं। पहली बार 1978 में जब इराक ने इस सम्मेलन का आयोजन किया था, तब से अब तक बहुत कुछ बदल चुका है। यह सम्मेलन तब हो रहा है, जब एक दशक के बाद अमेरिकी फौज इराक से वापस हो चुकी है, लेकिन सांप्रदायिक हिंसा, राजनीतिक मतभेद और आर्थिक समस्याएं मुल्क का सिरदर्द बनी हुई हैं। इराक की मजबूती का एक प्रतीक यहां यह दिखा कि देश के तीन सबसे बड़े कुर्द प्रतिनिधि इराकी राष्ट्रपति जलाल तालिबानी, विदेश मंत्री होश्यार जेबारी और वाणिज्य मंत्री खैरल्लाह बबीकर सम्मेलन में मौजूद थे। यह पहला मौका है, जब अरब लीग की अगुवाई कुर्द नेता कर रहे हैं। इससे यह भी पता चलता है कि इराक में राजनीतिक सत्ता किस तरह विभिन्न जातीय समुदायों में बंटी हुई है। ये हालात 1990 से बिल्कुल अलग हैं, जब सम्मेलन का नेतृत्व सद्दाम हुसैन कर रहे थे, इसके कुछ ही महीनों बाद उन्होंने कुवैत पर हमला कर दिया था। यह सम्मेलन पश्चिम एशिया की उस उथल-पुथल के बाद हो रहा है, जिसे अरब स्प्रिंग का नाम दिया गया था। ट्यूनीशिया, मिस्र, लीबिया और यमन भी इस सम्मेलन में अपने प्रतिनिधि भेजेंगे, जहां इस उथल-पुथल में सरकारें बदल गईं। इसलिए यह एक बड़ा मौका है, जब हमें अरब विश्व को छूने वाली समस्याओं पर इन नए नेताओं की सोच जानने को मिलेगी। लेकिन इस सम्मेलन में सीरिया नहीं होगा। वहां के लोग फिलहाल असद प्रशासन के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं। वहां के दरिद्र व भूखे लोगों का दमन हो रहा है। सीरिया को पिछले साल लीग से निकाल दिया गया था। वैसे 1990 के सम्मेलन में तब के सीरियाई राष्ट्रपति हाफिज अली असद शामिल नहीं हुए थे। उस समय कारण था सीरियाई नेता की इराकी नेता से नाराजगी।
द पेनिनसुला, कतर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अरब लीग का बगदाद सम्मेलन