DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देखी है कभी चमगादड़ों की बस्ती

तुमने चमगादड़ के बारे में तो सुना होगा। ये चमगादड़ हमेशा अपनी बस्ती बसाकर झुंड में रहते हैं। अमेरिका के टेक्सास शहर के एक स्थान अंटोर्निया में एक बड़ी सी गुफा है, जहां दो करोड़ से अधिक चमगादड़ रहते हैं। इसे चमगादड़ों की बस्ती भी कहा जाता है।

चमगादड़ करीब तीन-चार इंच से लेकर दो फुट तक के होते हैं। सबसे अनोखी बात है कि यह स्तनधारी होते हुए भी पंख फैलाकर उड़ते हैं। जब आराम करते हैं तो पेड़ों की टहनियों पर उल्टा लटक जाते हैं और इसी हालत में सो जाते हैं। इनके पंजे काफी मजबूत और अच्छी पकड़ वाले होते हैं, इसलिए जब आराम करना होता है तब घंटों ये पंजों के बल लटके रहते हैं।

शक्ल में यह जीव अनोखा होता है। चेहरा बिल्लियों जैसा होता है, दांत कुत्ते और जबड़ा बंदरों जैसा होता है। वैज्ञानिकों ने चमगादड़ की करीब दो सौ प्रजातियों को खोज निकाला है। इनकी तीन प्रजातियां बहुत दुर्लभ होती हैं। ये हैं- पश्चिमी सीलीबज, भारत की लेटीडेस और वियतनाम की पैराकालोप्स। अंधेरे में इनके परिवार बढ़ते हैं। हर मां, करोड़ों चमगादड़ों के बीच, अंधेरे में अपने बच्चे को पहचान लेती है। चमगादड़ शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के होते हैं।

चमगादड़ की दो आंखें होती हैं, लेकिन उन्हें रात में पहचानने की क्षमता आंख बंद करने के बाद भी होती है। वे अपना रास्ता नाक, कान से भी पहचान लेते हैं। एक रोचक प्रयोग में वैज्ञानिकों ने कुछ चमगादड़ों की आंखों पर काले टेप चिपका दिए, ताकि उन्हें बिल्कुल दिखाई न दे। इसके बाद उन्हें कमरे में छोड़ दिया गया। लेकिन वो बिना टकराए सहज घूमते रहे। इनका आंख बंद कर रास्ता ढूंढ़ लेने का राज तरंगें हैं, जो वस्तु से टकराकर लौटने पर बताती हैं कि आगे रुकावट है। इनकी सबसे तेज गति 51 किलोमीटर प्रति घंटे है और इनकी औसतन आयु 20 वर्ष होती है, लेकिन कुछ 32 वर्ष की आयु तक जीवित रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:देखी है कभी चमगादड़ों की बस्ती