DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसीसी मजदूर यूनियन अध्यक्ष की हत्या, जाम

सोमवार को इंटक के एसीसी मजदूर यूनियन अध्यक्ष गोकुल गोप की बम मार कर हत्या कर दी गयी। उनकी हत्या ङींकपानी के जोड़ापोखर चौक पर स्थित पुलिस चौकी के बगल में (चौकी पर केवल रात्रि में पुलिस रहती है) सुबह 6:30 बजे उस समय की गयी, जब वह वहां एक दुकान पर अपना जूता पॉलिस करा रहे थे।

गोकुल गोप पर जिस समय बम और गोली से हमला किया गया उस समय उसके साथ उनके भांजे (भगीना) मोनू गोप भी थे। घटना के संबंध में आठ लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की गई है। उधर, गोकुल गोप की हत्या के बाद स्थानीय लोगों और परिजनों ने जोड़ापोखर चौक पर एनएच-75 को जाम कर दिया।

हमलवालों द्वारा उसे भी गोली मारने की कोशिश की गयी, लेकिन किसी प्रकार भागकर उसने जान बचाई। गोकुल की हत्या की खबर ङींकपानी और आस-पास काफी तेजी से फैली। जानकारी मिलते ही ङींकपानी थाना पुलिस घटना स्थल पर पहुंच गयी। किरीबुरू से पुलिस उपाधीक्षक एके सिंह भी 9 बजे तक घटनास्थल पर पहुंच गये।

इस दौरान काफी संख्या में लोगों की भीड़ इकट्ठ हो गयी। गोकुल के परिजन और परिवार की महिलाएं भी घटना स्थल पर पहुंचे। गोकुल के परिजनों व साथियों ने पुलिस को काफी खरी-खोटी सुनायी। घटना के पीछे दो-तीन वर्षो से चल रही वचस्र्व की लड़ाई बताई जाती है।
गोकुल के भांजे मोनू गोप (28) ने पुलिस को बताया वे अपने मामा के साथ सोमवार की सुबह जोड़ापोखर चौक पर एक मोची के दुकान में जूता पॉलिस करवा रहे थे।

उसी समय दिपीप मुंडा, जन्तुर मुंडा, मधु गोप, राजा तुबिद, मुन्ना कुजूर, मंगल अल्डा, ताला बारी तथा गणेश दिग्गी आदि 8 व्यक्ति आए। सबसे पहले दिलीप मुंडा ने गोकुल गोप की छाती में बम दे मारा। उसके बाद मधुगोप और जन्तुर मुंडा ने भी अपने हाथ में लिये बम से गोकुल गोप पर प्रहार किया।

बम लगने के बाद गोकुल गोप जब गिर गये उसी समय राजा तुबिद ने अपने हाथ में लिये पिस्तौल से बाईं कनपट्टी में सटा कर गोली मार दी, जिससे उनकी घटना स्थल पर ही मृत्यु हो गयी। रास्ते से गुजर रहे कुछ मजदूरों को भी बम के छर्रे लगे, लेकिन वे नहीं रुके और अपने रास्ते चलते बने।

अपराधी घटना को अनजाम देने के बाद अपने साथ लायी मोटरसाइकिल से ङींकपानी एसीसी कॉलोनी की ओर भाग निकले। अपराधी घटनास्थल से निकल कर आगे बिना नम्बर की बाइक से भाग निकले। घटना स्थल से एक जिन्दा बोतल बम तथा एक खोखा मिला है।

उधर, जाम लगा रहे लोगों को काफी समझाने के बाद शव को 8:30 बजे पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल चाईबासा भेजा गया। लेकिन 9 बजे रास्ते में ही चाईबासा-ङींकपानी मार्ग में गितलपी के पास शव ले जा रही गाड़ी को रोका गया और पुन: शव को वापस झींकपानी ले आया गया। इसके पहले सड़क जाम कर दिया गया।

शव के झींकपानी पहुंचने पर शव को मुख्य मार्ग में रख दिया गया। मुख्य मार्ग जाम रहा और लोग उग्र होते दिखे। इस दौरान डीएसपी श्री सिंह एवं ङींकपानी तथा टोन्टो के थाना प्रभारी ने लोगों को काफी समझाया-बुझाया। पुलिस के द्वारा लोगो को समझाने के बाद 10:30 बजे शव को पुन: पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल चाईबासा भेजने की प्रक्रिया शुरू हुई और जाम में थोड़ी ढील होती दिखी कि कुछ मिनट के बाद ङींकपानी रेलवे स्टेशन मुहल्ले की वार्ड सदस्य और काफी संख्या में माहिलाएं आयीं और पुन: महौल गर्म हो गया।

महिलाएं किरीबुरू डीएसपी को तरह-तरह की बातें सुनाने लगीं। वे महिलाएं कह रही थीं कि जब कभी ङींकपानी में कोई घटना होती है तो स्टेशन मुहल्ले के निदरेष लोगों को तंग किया जाता है, लेकिन आज पुलिस चौकी के बगल में ही घटना घट जाने के बाद अपराधियों को कितने दिन और घंटों में पकड़ लिया जाएगा। इस पर किरीबुरू डीएसपी ने बताया कि  पहले की घटना के बारे में जानकारी है, लेकिन एक बार दुबारा लिखित शिकायत दी जाए अवश्य कार्यवायी होगी। इस बात पर सहमत होने पर महिलाएं शांत हुईं और जाम पूरी तरह से हट गया।

सड़कों पर पसरा सन्नाटा 
ङीकपानी के जोड़ापोखर में गोकुल गोप की हत्या हो के बाद सड़कों पर सन्नाटा छाया रहा। जोड़ापोखर की सभी दुकानें बंद रहीं। यही हाल तख्ता बजार की भी थी।

जल्द पकड़े जाएंगे अपराधी : डीएसपी
डीएसपी एके सिंह ने बताया कि यह घटना सुबह 6:30 से 7 बजे के बीच की है। मृतक (गोकुल गोप) और उनका भांजा घटना स्थल पर जूता पॉलिस करवा रहे थे। इस दौरान कुछ अपराधियों ने इस घटना को अंजाम दिया। मृतक के भांजे ने 8 लोगों पर नाम से प्रथामिकी दर्ज करवायी है। पुलिस अनुसंधान कर रही है। ऐसा प्रतीत होता है कि यह घटना वर्षों से चली आ रही आपसी विवाद के कारण हुआ है। अनुसंधान चल रही है। अपराधियों को जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एसीसी मजदूर यूनियन अध्यक्ष की हत्या, जाम