DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सजा याफ्ता से सप्ताह में एक बार मुलाकात का प्रबन्ध

उत्तर प्रदेश की जेलों में अब सजायाफ्ता कैदियों से महीने में चार बार और विचाराधीन कैदियों से सप्ताह में दो बार मुलाकात हो सकेगी। राज्य के जेल मंत्री रघुराज प्रताप सिंह ने सोमवार को अपने विभाग की समीक्षा बैठक में अधिकारियों से कहा कि जेल में बंद सजायाफ्ता कैदियों के लिए अब उनके परिवार वालों को सप्ताह में कम से कम एक बार मिलने की इजाजत दी जानी चाहिए। जेल नियमों के अनुसार सजायाफ्ता कैदियों से उसके परिवार वाले महीने में एक बार ही मिल सकते हैं।

उन्होंने कुछ दिन पूर्व जेलों के निरीक्षण में कैदियों के लिए बने खाने को भी देखा था और उसके खराब स्तर के लिए अधिकारियों को फटकार लगाई थी। उन्होंने कहा कि कैदियों के लिए बनने वाले खाने की सब्जी में डालडा का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। सब्जियां वनस्पति तेल से बननी चाहिए।

सिंह ने कहा कि राज्य सरकार कैदियों को जेल मैनुअल के हिसाब से सभी सुविधा देगी। गर्मी में कैदियों के लिए ठंडे पानी और पंखों की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जेल में किसी तरह की हिंसा और कैदियों के साथ मारपीट की घटना सहन नहीं की जाएगी। बीमार कैदियों के इलाज की पूरी व्यवस्था होगी।
 
उन्होंने अधिकारियों से गंभीर रूप से बीमार कैदियों की पूरी सूची देने को कहा। सिंह ने कहा कि वर्तमान परिस्थिति में जेल मेनुअल में भी परिवर्तन की जरूरत है। जेल राज्य मंत्री इकबाल महमूद ने कहा कि रमजान के महीने में मुसलमान कैदियों के लिए सहरी और अफ्तार की भी व्यवस्था करने को कहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सजा याफ्ता से सप्ताह में एक बार मुलाकात का प्रबन्ध