DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राकेश मार्ग और गुलमोहर एनक्लेव में 12 सैंपल फेल

गाजियाबाद। कार्यालय संवाददाता

शहर में पानी के सैंपल लगातार फेल होने के बाद भी नगर निगम के अधिकारी इसे लेकर गंभीर नहीं हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा राकेश मार्ग और गुलमोहर एनक्लेव क्षेत्र में लिए गए पानी के सभी 12 सैंपल फेल पाए गए। इससे साफ है कि राकेश मार्ग क्षेत्र में रहने वाले लोग बिना क्लोरीन वाला पानी पी रहे हैं। अभी तक स्वास्थ्य विभाग शहर से 62 सैंपल ले चुका है, इसमें से 54 फेल हो चुके हैं।

निगम के अधिकारी लगातार दावा कर रहे हैं कि पानी में क्लोरीनेशन कराया जा रहा है लेकिन हकीकत यह है कि खुद अधिकारियों को ही इस बात का पता नहीं कि कौन से पंप पर क्लोरीनेशन हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग ने सैंपल फेल होने की रिपोर्ट नगर निगम और जीडीए अधिकारियों को भेजी है। पानी की समस्या को लेकर शहर में विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शन तक हो चुके हैं।

अधिकारियों को ज्ञापन सौपने के बाद भी अभी तक पानी की स्थिति पहले जैसी ही हैं। प्रताप विहार के लोगों ने किया प्रदर्शनपानी की समस्या को लेकर प्रताप विहार के लोग नगर निगम के अधिकारियों को पत्र दे चुके हैं। आरडब्ल्यूए के सदस्यों ने क्षेत्र के हर पंप पर पहुंचकर वहां का जायजा लेना शुरू कर दिया है। रविवार को प्रताप विहार के लोग निवर्तमान पार्षद सुनील यादव के साथ पंप पर पहुंचे।

यहां पानी सप्लाई की जो स्थिति थी उसे देख लोग भड़क गए। उन्होंने पंप पर पहुंचकर नगर निगम के खिलाफ प्रदर्शन किया। सुनील यादव ने बताया कि वह कई बार जलकल विभाग के अधिकारियों को इस स्थिति से अवगत करा चुके हैं लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है। हालात यह है कि जिस पंप से क्षेत्र के लोगों को पानी सप्लाई किया जाता है वह पंप ही गंदगी में समा चुका है।

पंप चलने के बाद उससे लगातार लीकेज होता रहता है। आरडब्ल्यूए के सदस्यों ने चेतावनी दी है कि जल्द क्षेत्र में पानी को लेकर बड़ा आंदोलन शुरू किया जाएगा। ..आखिर कहां से आएगी रिपोर्टनगर निगम के जलकल महाप्रबंधक बाबूलाल ने दो सप्ताह पहले दावा किया था कि पानी के मामले में रिपोर्ट मंगवाई गई है लेकिन आज तक नहीं आई। यह रिपोर्ट कहां से आएगी और कौन देगा जब इस बारे में पूछा गया तो उनका जबाव था कि मामले की जांच की जा रही है। जांच कौन कर रहा, इस पर उन्होंने कहा कि क्षेत्र के जेई जांच करके रिपोर्ट देंगे। रिपोर्ट कब तक आएगी इसका उनके पास कोई स्पष्ट जबाव नहीं है।

अब तक 54 सैंपल हो चुके हैं फेलस्वास्थ्य विभाग की टीम पिछले एक माह से लगातार विभिन्न क्षेत्रों से पानी के सैंपल ले रही है। 10 मार्च से शुरू हुए अभियान में अब तक 64 सैंपल लिए गए हैं। जिनमें से 54 सैंपल फेल पाए गए। 10 सैंपल राजनगर क्षेत्र के पास मिले। जहां डीएम, एसएसपी, जीडीएवीसी व सांसद का निवास हैं। इतना ही नहीं स्कूलों में भी पानी में क्लोरिनेशन नहीं किया जा रहा है।

बैक्टीरियां पनपने की आई आर्दश स्थितिवरिष्ठ पैथोलॉजिस्ट डॉ. एस.एम. केसरवानी की माने तो किसी बैक्टिरिया पनपने की आर्दश स्थिति 37 डिग्री तापमान होती है। कोई भी कल्चर टेस्ट 37 डिग्री तापमान पर किया जाता है। इस तापमान पर बैक्टिरिया पनपने शुरू हो जाते हैं। जैसे-जैसे तामपान बढ़ता है तो यह तेजी के साथ बढ़ते हैं। पानी में बैक्टिरिया पनपने से यह पीने योग्य नहीं रह पाता। यदि इस दौरान इस पानी में हल्की की क्लोरीन मिला दी जाय तो यह बैक्टीरियां को पैदा नहीं होने देती। ज्यादा तापमान होने पर पानी गर्म होने लगता है तो यह बैक्टीरिया मरने लगते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राकेश मार्ग और गुलमोहर एनक्लेव में 12 सैंपल फेल